पत्नी के निजी अंग में डाली लकड़ी, 5 दिन माैत से लड़ी लेकिन सांस थम गई गंगा की

भीलवाड़ा (Bhilwara). पति की लंबी उम्र और खुशहाली के लिए पूरे दिन निराहार रहने, पानी तक नहीं पीते हुए पूजा करने के महापर्व करवा चाैथ से एक दिन पहले यह खबर राेंगटे खड़े कर देने वाली है. एक पति ने इस कदर हैवानीयत की कि पत्नी आपबीती तक नहीं बता सकी. अंदर ही अंदर दर्द सहती रही. समय पर इलाज नहीं मिला और सुहाग पर्व से एक दिन पहले उसकी सांस ही थम गई.

वारदात भीलवाड़ा (Bhilwara) जिले के बदनाैर थाना क्षेत्र के ओझियाणा गांव की है. 17 अक्टूबर की रात ट्रक ड्राइवर पति नेनूसिंह रावत ने हमेशा की तरह शराब पी. नशा चढ़ने के साथ पत्नी गंगादेवी काे पीटना शुरू कर दिया. 23 साल पहले ब्याही गई 40 वर्षीय की गंगादेवी की यही नीयती हाे गई थी. पति ट्रक पर बाहर रहता. घर आता ताे जमकर शराब पीता और देर रात तक उसे पीटता. इस बार भी 7 साल की बेटी साेनू देखती रही और वह गंगा काे पीटता रहा.

एक लकड़ी लाकर गंगा निजी अंग में ठूंस दी. गहरा घाव हाेने से गंगा के खून बहने लगा. बेसुध हाे गई ताे अस्पताल ले जाने की बजाय रात करीब 12 बजे चार पहिया वाहन में डालकर 6-7 किलाेमीटर दूर बलाड़िया का बाड़िया गांव ले गया. वहां गंगा की छाेटी बहन टेमा के ससुराल के मकान के बरामदे में छोड़ कर भाग गया. बहन सुबह उठी तब गंगा बाहर अर्द्ध मूर्छित सी पड़ी थी. कुछ बता नहीं रही थी. टालमटाेल कर रही थी. टेमू ने पिता खीमसिंह रावत काे सूचना दी. 80 साल का बुजुर्ग पिता पहुंचा. बहन टेमा उसके ससुराल के परिजन और पिता ने अपने स्तर पर गंगा से कई बार पूछा लेकिन शर्म के कारण कुछ नहीं बता सकी.

अगले दिन पिता खीमसिंह गंगा काे अपने यहां मावला लेकर आ गए. पीहर में पिता के अलावा काेई नहीं है. मां की कुछ साल पहले माैत हाे चुकी है. सगा भाई नहीं है. उसे चचेरे भाई गाेपालसिंह रावत के यहां रखा. गाेपालसिंह के भी पत्नी नहीं है. इधर, गंगा की तबीयत खराब हाेती चली गई. शरीर से बदबू आने लगी. आसपास की महिलाएं भी आतीं ताे गंगा कुछ नहीं बताती. 22 तारीख काे ताे उसकी तबीयत गंभीर हाे गई. महिलाआें ने कपड़े हटाकर शरीर देखा तो हैरान रह गई.

Check Also

राज्य सरकार बालिका शिक्षा को बढावा देने के लिए दृढ़ संकल्प: विधायक परमार

उदयपुर (Udaipur). विधायक एवं पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री डाँ दयाराम परमार ने कहा कि राज्य …