चुनाव 2024: क्या चाहते हैं भारतीय-अमेरिकी मतदाता? – indias.news

नई दिल्ली, 4 फरवरी . अमेरि‍का में इस वर्ष होने वाले राष्‍ट्रपति पद के चुनाव की तैयारी जारी है. वहीं वहां के लगभग चार म‍िल‍ियन भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने मजबूत अर्थव्यवस्था, नागरिकों की सुरक्षा, दक्षिणी सीमा संकट को ठीक करना और भारत के साथ मजबूत संबंध की मांग की है.

गौरतलब है कि वर्ष 2020 के चुनाव में कई राजनीतिक पंड‍ितों को आश्चर्यचकित करते हुए इस समुदाय ने रिकॉर्ड 71 प्रतिशत मतदान कर राष्ट्रपति जो बाइडेन की जीत सुनिश्चित करने में अहम भूम‍िका न‍िभाई थी.

पिछले साल देश के कई हिस्सों में हुए स्थानीय और राज्य-स्तरीय चुनावों में कम से कम 10 भारतीय-अमेरिकियों ने जीत हासिल की. इनमें से ज्यादातर डेमोक्रेट थे. यह इस समुदाय की वहां बढ़ती राजनीतिक शक्ति को दर्शाता है.

देश के इतिहास में पहली बार, दो भारतीय-अमेरिकी उम्मीदवार, निक्की हेली और विवेक रामास्वामी ने रिपब्लिकन राष्ट्रपति पद के बहस मंच पर पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को कड़ी टक्कर दी.

फिर भी, जैसा कि कार्नेगी एंडोमेंट अध्ययन में स्पष्ट रूप से कहा गया है, भारतीय अमेरिकियों की बढ़ती राजनीतिक प्रोफ़ाइल के बावजूद, उनके राजनीतिक दृष्टिकोण का बहुत कम अध्ययन किया गया है.

एसोसिएशन की उपाध्यक्ष नीलिमा मदन ने से कहा, “कई भारतीय-अमेरिकी चुनाव में धन जुटाने से लेकर अन्‍य गत‍िव‍िधि‍यों में सक्र‍िय रूप से लगे रहते हैं, लेक‍िन जब प्रतियोगी निर्वाचित होते हैं और पद ग्रहण करते हैं, तो भारतीय-अमेरिकी समुदाय को प्रभावित करने वाले अधिकांश वादे किनारे रह जाते हैं.”

राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रमुख धन उगाहने वालों में भारतीय-अमेरिकी शामिल थे, जिन्होंने 2020 में उनके अभियान के लिए कम से कम 100,000 डॉलर जुटाने में मदद की.

800 प्रमुख दानदाताओं की सूची में शीर्ष पर स्वदेश चटर्जी, रमेश कपूर, शेखर एन. नरसिम्हन, आर. रंगास्वामी, अजय जैन भुटोरिया, फ्रैंक इस्लाम, नील मखीजा और बेला बजारिया जैसे सामुदायिक नेता शामिल थे.

मदन ने कहा, “एक अमेरिकी नागरिक को जो चीज प्रभावित करती है वह मुख्य रूप से अर्थव्यवस्था, उनका गौरव व निराशा है, और उनका जीवन रिपब्लिकन या डेमोक्रेट द्वारा कैसे चलाया जाएगा.”

अमेरिका में पंजीकृत मतदाताओं का लगभग 1 प्रतिशत और एशियाई-अमेरिकी मतदाताओं के 16 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करने वाले, भारतीय-अमेरिकियों को फ्लोरिडा, पेंसिल्वेनिया, मिशिगन और नेवादा जैसे राज्‍यो में प्रमुख खिलाड़ी माना जाता है.

आईटीवी गोल्ड चैनल ने को बताया, न्यू जर्सी स्थित कार्यक्रम निदेशक अशोक व्यास ने कहा, “आम तौर पर, भारतीय-अमेरिकी मतदाता, विभिन्न पदों के लिए उम्मीदवारों का समर्थन करते समय, अपनी चिंताओं को स्पष्ट नहीं करते हैं, वे राजनीतिक प्रतिनिधियों के विचारार्थ अपनी मांगों को स्पष्ट रूप से नहीं रखते हैं.”

उन्होंने कहा, ”लेकिन पिछले कुछ समय से, सामान्य भारतीय-अमेरिकी मतदाता भारतीय मामलों में बहुत रुचि ले रहे हैं और भारत के प्रति संवेदनशीलता बढ़ी है.उन्होंने कहा कि मतदाता छात्रों के लिए भारतीय संस्कृति और धर्म का निष्पक्ष चित्रण चाहते हैं.”

व्यास के अनुसार, मजबूत सरकार चाहने के अलावा, भारतीय-अमेरिकी मतदाताओं की तत्काल चिंता स्थिरता, सुरक्षा और कानून-व्यवस्था है.

जबकि अर्थव्यवस्था और स्वास्थ्य सेवा को बड़े पैमाने पर भारतीय अमेरिकियों की वोट पसंद को प्रभावित करने के लिए देखा जाता है, इस बार समुदाय यह भी चाहता है कि अमेरिका भारत के साथ मजबूत संबंध विकसित करे.

न्यूयॉर्क स्थित आध्यात्मिक वेबसाइट, एलोटसइनदमडडॉटकाम के संस्थापक, परवीन चोपड़ा, हिक्सविले में एक धन संचयन में थे, जहां प्रमुख भारतीय-अमेरिकियों ने “प्रवासियों की भीड़” के अलावा, बेहतर भारत-अमेरिका संबंधों और दक्षिणी सीमा पर सुरक्षा को अपनी शीर्ष चिंताओं के रूप में उल्लेख किया.”

हाल के वर्षों में मेक्सिको सीमा के माध्यम से देश में प्रवेश करने वाले प्रवासियों की संख्या में वृद्धि के साथ दक्षिणी सीमा पर संकट 2024 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में एक गंभीर मुद्दा बन गया है.

हाल ही में डिपाॅर्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी सीमा शुल्क और सीमा सुरक्षा ने बााइडेन प्रशासन के तहत दक्षिणी सीमा पर 2.3 मिलियन से अधिक प्रवासियों को देश में छोड़ा, इससे अधिकांश प्रवासी परिवारों और कुछ वयस्क समूहों को अनुमति मिली.

न्‍यूयार्क टाइम्‍स की एक रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि अब अमेरिका के अंदर लगभग 11 मिलियन अनिर्दिष्ट आप्रवासी हैं. यह संख्‍या 1990 में यहां रहने वाली संख्या से तीन गुना है. ये लोग डेनवर, न्यूयॉर्क और शिकागो जैसे शहरों के संसाधनों पर दबाव डाल रहे हैं.

न्यूयॉर्क स्थित दैनिक, द साउथ एशियन टाइम्स के पूर्व संपादक चोपड़ा ने ने से कहा, “एक डेमोक्रेट जो काउंटी विधायी सीट के लिए असफल रूप से चुनाव लड़ा, उसने कहा कि वह इस बार डोनाल्ड ट्रम्प को वोट देने के लिए तैयार है, जो बाइडेन के तहत खुली सीमाओं और प्रवासी तम्बू शहरों से नाखुश है.”

व्यास ने कहा कि ट्रंप के दोबारा राष्ट्रपति बनने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता.

उन्होंने कहा, “डोनाल्ड ट्रंप ने दीवार बनाने और अमेरिका को पहले स्थान पर रखने की बात की थी. ये विचार उन्हें एक लोकप्रिय विकल्प बना रहे हैं. क्या हमारे पास ट्रंप फिर से राष्ट्रपति होंगे? इससे इनकार नहीं किया जा सकता है.”

जबकि भारतीय अमेरिकी बड़े पैमाने पर डेमोक्रेट के पक्ष में हैं, मदन ने से कहा कि यह एक “विश्वसनीय अमेरिकी प्रशासन” चुनने के बारे में है.

“डेमोक्रेट हों या रिपब्लिकन, कोई भी चार साल की अप्रत्याशितता के लिए वोट नहीं करता, बल्कि एक विश्वसनीय अमेरिकी प्रशासन को चुनता है.”

जबकि राष्ट्रपति पद की दौड़ में रामास्वामी और हेली के प्रवेश से समुदाय में उत्साह की प्रारंभिक लहर है, मदन ने कहा कि किसी व्यक्ति की नस्ल या जातीयता स्वयं एक परिभाषित कारक नहीं है.

मदन ने से कहा, “हर चुनाव राजनीतिक ध्रुवीकरण के बीच भाग लेने और अनुकूल परिणाम की उम्मीद करने का एक और मौका बन जाता है. हालांकि उनके विविध दृष्टिकोण और विशेषताएं 2024 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों के लिए भारतीय अमेरिकी मतदाताओं को विभाजित कर रही हैं, लेकिन किसी व्यक्ति की नस्ल या जातीयता स्वयं एक परिभाषित कारक नहीं है.”

रिपब्लिकन राष्ट्रपति पद की दौड़ में शामिल हेली ने खुद को आप्रवासियों की बेटी कहकर अपना अभियान शुरू किया, लेकिन उन्हें समुदाय से ज्यादा समर्थन नहीं मिला.

ट्रंप के खिलाफ दक्षिण कैरोलिना के पूर्व गवर्नर की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर चोपड़ा ने को बताया, “निक्की हेली के बारे में, भारतीय उन्हें व्यवहार्य उम्मीदवार नहीं मानते हैं – उनका भारतीय मूल का होना उनके समीकरण में ज्यादा मायने नहीं रखता है.”

व्यास ने कहा कि “इस समय, वह पूर्व राष्ट्रपति ट्रम्प के खिलाफ कोई आधार नहीं रखती हैं.”

इस सप्ताह जारी मॉनमाउथ यूनिवर्सिटी-वाशिंगटन पोस्ट पोल के अनुसार, हेली अपने गृह राज्य साउथ कैरोलिना में ट्रंप से 26 अंकों से पीछे चल रही हैं.

पूर्व राष्ट्रपति द्वारा अब तक आयोजित दो प्राथमिक प्रतियोगिताओं में जीत के साथ, 2024 का राष्ट्रपति अभियान स्पष्ट रूप से ट्रम्प-बाइडेन रीमैच की ओर बढ़ रहा है, अधिकांश मतदाता चाहते हैं कि दौड़ में बेहतर उम्मीदवार हों.

एएपीआई (एशियन अमेरिकन एंड पैसिफिक आइलैंडर) डेटा के 2022 के सर्वेक्षण के अनुसार, माना जाता है कि 2020 में लगभग 74 प्रतिशत भारतीय-अमेरिकी मतदाताओं ने बाइडेन का समर्थन किया था, जबकि ट्रम्प का समर्थन केवल 15 प्रतिशत ने किया था.

हार्वर्ड में सकारात्मक कार्रवाई, कैलिफ़ोर्निया में जाति-विरोधी कानून, खालिस्तान शांति, हिंदू मंदिरों पर बढ़ते हमले और कॉलेज परिसरों में इज़राइल-हमास संघर्ष के नतीजे हिंदुओं और अन्य अल्पसंख्यकों के लिए एक अच्छी तस्वीर पेश नहीं करते हैं.

मदन कहते हैं, “जब तक सभी को पता नहीं चलता कि अगला कौन है, तब तक सब कुछ अस्थिर रहता है, फिर भी सर्वश्रेष्ठ की आशा बनी रहती है.”

/