नाबालिग स्टूडेंट से रेप करने वाले शिक्षक को आजीवन कारावास ; वार्डन प्रिया शुक्ला और उसके पति को कोर्ट ने सुनाई 6-6 साल की सजा


बीकानेर (Bikaner) . राजस्थान (Rajasthan) में बीकानेर (Bikaner)की एक विशेष पॉक्सो अदालत ने जिले में एक दलित नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार और आत्महत्या संबंधी मामले में दोषियों को सजा सुनाई है. पॉक्सो अदालत के न्यायाधीश (judge) देवेंद्र सिंह नागर ने मुख्य आरोपी और दुष्कर्म करने वाले शिक्षक विजेन्द्र सिंह को आजीवन कारावास व छात्रावास की वार्डन प्रिया शुक्ला और उसके पति प्रतीक शुक्ला को छह-छह साल की सजा सुनाई. इससि पहले अदालत ने आरोपियों को दोषी ठहराया था.

मुख्य आरोपी विजेन्द्र को बलात्कार, आत्महत्या के लिए उकसाने, अपहरण और अन्य अपराधों के लिये दोषी ठहराया गया जबकि शुक्ला दंपति को अपहरण, आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी ठहराया गया. अदालत ने संस्थान के मालिक ईश्वर चंद बैद को दोषमुक्त करार दिया. वर्ष 2016 में दलित युवती के आत्महत्या प्रकरण में परिजनों व समुदाय की तरफ से कई दिनो तक धरना प्रदर्शन किया गया था. नाबालिग युवती जैन आदर्श कन्या शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान में बीएसटीसी द्वितीय वर्ष की छात्रा थी और कॉलेज के छात्रावास में रहती थी. दुष्कर्म के बाद नाबालिग का शव छात्रावास में पानी के कुंड में पाया गया था.

Check Also

कोरोना महामारी के कठिन वक्त में भी दोस्‍ती की कसौटी रहा भारत-आसियान : पीएम मोदी

नई दिल्‍ली . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कहा कि कोरोना महामारी …