वीवो ही रह सकती है इस बार IPL प्रयोजक

नई दिल्ली (New Delhi) . चीनी मोबाइल निर्माता कंपनी वीवो की इस 2021 सत्र में आईपीएल (Indian Premier League) के प्रायोजक के तौर पर वापसी के संकेत मिल रहे हैं. इसका कारण यह है कि उम्मीदों के अनुरूप पेशकश नहीं होने के कारण वीवो ने अब तक किसी अन्य कंपनी को प्रायोजन अधिकार नहीं दिये गये हैं. विवो का भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के साथ प्रायोजन करार 440 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष है.

चीन के साथ पिछले साल हुई हिंसक झड़पों के कारण देश भर में बने दबाव के बाद बीसीसीआई ने यह करार निलंबित कर दिया था. बीसीसीआई सूत्रों ने कहा, ड्रीम 11 और अनएकेडमी ने इस साल के लिये जो पेशकश की थी वह वीवो की उम्मीदों के अनुरूप नहीं थी, इसलिए उसने इस साल स्वयं प्रायोजक बनने और अगले साल संभावनाएं तलाशने का फैसला किया है. गौरतलब है कि पिछले सत्र में ड्रीम 11 आईपीएल (Indian Premier League) 2020 की खिताबी प्रायोजक थी. उसने 222 करोड़ रुपये देकर ये अधिकार हासिल किये थे. वीवो पांच साल के करार के लिये एक वर्ष में जितनी धनराशि देगा यह उससे लगभग आधी थी. गौरतलब है कि वीवो ने साल 2018 से 2022 तक आईपीएल (Indian Premier League) प्रायोजन अधिकार 2190 करोड़ रुपये में हासिल किये थे.

Check Also

जापान में 107 दिन बाद ओलंपिक और बढ़ रहे केस

टोक्यो . जापान में ठीक 107 दिन बाद ओलंपिक शुरू होना है, इस बीच कोरोना …