वीआईएल और एलएंडटी के साथ 5जी आधारित स्मार्ट सिटी समाधान परीक्षण योजना में समझौता

नई दिल्ली (New Delhi) . निजी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया लि. (वीआईएल) ने इंजीनियरिंग एवं निर्माण कंपनी लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) के स्मार्ट वर्ल्ड एवं संचार कारोबार के साथ 5जी आधारित स्मार्ट सिटी समाधानों के परीक्षण की पायलट परियोजना के लिए हाथ मिलाया है. यह सरकार द्वारा आवंटित स्पेक्ट्रम के मौजूदा 5जी परीक्षणों का हिस्सा है. एक संयुक्त बयान में इस भागीदारी की जानकारी देते हुए कहा गया है कि पायलट परियोजना पुणे (Pune) में सरकार द्वारा आवंटित 5जी स्पेक्ट्रम पर स्थापित की जाएगी. इसके द्वारा स्मार्ट सिटी एप्लिकेशंस का विश्लेषण किया जाएगा.

ये कंपनियां इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), कृत्रिम मेधा (एआई) जैसी प्रौद्योगिकियों पर 5जी के इस्तेमाल के परीक्षण और वैधता के लिए संयोजन करेंगी. इसके लिए एलएंडटी के स्मार्ट सिटी मंच फ्यूजन का इस्तेमाल किया जाएगा. इसके तहत शहरीकरण, सुरक्षा की चुनौतियों का समाधान किया जाएगा और नागरिकों को स्मार्ट समाधानों की पेशकश की जाएगी. वोडाफोन आइडिया के मुख्य उपक्रम कारोबार अधिकारी अभिजीत किशोर ने कहा कि दूरसंचार समाधान स्मार्ट और सतत शहरों के निर्माण का आधार हैं.

वोडाफोन आइडिया ने रविवार (Sunday) को दावा किया कि पुणे (Pune) में 5जी परीक्षण के दौरान उसने 3.7 गीगाबिट प्रति सेकेंड (जीबीपीएस) की अधिकतम स्पीड हासिल की है. यह भारत में किसी भी टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर द्वारा हासिल की गई सबसे तेज गति है. कंपनी ने गांधीनगर (Gandhinagar) और पुणे (Pune) में मिड-बैंड स्पेक्ट्रम में 1.5 जीबीपीएस डाउनलोड की गति दर्ज करने का भी दावा किया है. दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने वोडाफोन आइडिया को 5जी नेटवर्क परीक्षण के लिए पारंपरिक 3.5 गीगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम बैंड के साथ-साथ 26 गीगाहर्ट्ज (जीएचजेड) जैसे हाई फ्रीक्वेंसी बैंड आवंटित किए हैं. कंपनी ने एक बयान में कहा, वोडाफोन आइडिया ने पुणे (Pune) शहर में क्लाउड कोर, नयी पीढ़ी के ट्रांसपोर्ट और रेडियो एक्सेस नेटवर्क के एंड-टू-एंड कैप्टिव नेटवर्क के लैब सेट-अप में अपना 5जी परीक्षण तैनात किया है.

Check Also

कोरोना के डर से बाजार में ‎गिरावट

मुंबई (Mumbai) . साउथ अफ्रीका में कोरोनावायरस का नया म्यूटेंट मिलने के कारण दुनिया भर …