वल्लभनगर उपचुनावः प्रचार सामग्री पर रहेगी प्रशासन की पैनी नजर


जिला प्रशासन की प्रिंटिंग प्रेस संचालकों के साथ बैठक

उदयपुर (Udaipur). वल्ल्भनगर विधानसभा उपचुनाव 2021 में पेम्पलेट्स, पोस्टर इत्यादि के मुद्रण पर नियंत्रण के संबंध में मंगलवार (Tuesday) को जिला कलक्टर (District Collector) चेतन देवड़ा की अध्यक्षता में कलेक्टेªट सभागार में बैठक हुई. एडीएम प्रशासन एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी ओ.पी.बुनकर ने मुद्रकों को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 127-क की जानकारी देते हुए कहा कि मुद्रण के तीन दिन के अंदर मुद्रित सामग्री चार प्रतियों में जिला मजिस्टेªट के समक्ष प्रस्तुत करना और मुद्रित सामग्री पर उसके मुद्रक और प्रकाशक का नाम, पता व संख्या अंकित करना अनिवार्य है. निर्वाचन विभाग के निर्देशों का उल्लंघन करने पर कारावास व आर्थिक जुर्माने का प्रावधान हैं. प्रकाशन हेतु अभ्यर्थी की अनुमति आवश्यक है. सोशल मीडिया (Media) पर विज्ञापन हेतु कमेटी बनाई गई है, उससे पूर्वानुमति लेना आवश्यक है. इसके साथ ही मुद्रक यह ध्यान रखें कि किसी भी धर्म, जाति, विशेष व चरित्र हनन सम्बन्धी विवरण का प्रकाशन न हों व आदर्श आचार संहिता की पालना की जाए.

सी-विजिल से बढ़ेगी सतर्कता

भारत निर्वाचन आयोग के सी-विजिल एप के माध्यम से कोई भी व्यक्ति आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत दर्ज करवा सकता है. सी-विजिल पर दर्ज प्रकरण का निस्तारण 100 मिनिट में करना जरूरी है. बैठक में वल्लभनगर उपखण्ड मजिस्टेªट श्रवण सिंह राठौड़, पुलिस (Police) उपअधीक्षक डुंगर सिंह, जिला सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी विपुल शर्मा, जिला निर्वाचन अनुभाग के महामाया प्रसाद, प्रिन्टिंग प्रेस एसोसिएशन के अध्यक्ष हंसराज सहित शहर के मुद्रण व्यवसाय से जुड़े लोग उपस्थित थे.

पंजीकृत मुद्रक से ही करवाएं प्रकाशन

मुद्रक प्रबन्धक व प्रतिनिधियों ने बताया कि जो मुद्रक बिना लाइसेंस के मुद्रण कार्य करते हैं उनके लिए चेतावनी जारी की जाए और इसकी सूचना राजनीतिक दल व अभ्यर्थी को दी जाए कि वे लाइसेंसधारी मुद्रक से ही प्रकाशन नहीं. प्रिन्टिंग प्रेस एसोसिएशन के अध्यक्ष ने सुझाव दिया कि प्रपत्र ‘‘क’’ एवं ‘‘ख’’ की सूचना 100 प्रतिशत ई-मेल के माध्यम से मय कंटेंट पी.डी.एफ. तथा प्रकाशन की जाने वाली सामग्री के खर्चे की सूचना भी ई-मेल के माध्यम से उपलब्ध करवाई जाएगी.

Check Also

उदयपुर में संक्रमण की चैन तोड़ने कारगर होगा सर्वे :  साढ़े पांच हजार घरों का सर्वे कर लगभग 29 हजार लोगों की स्क्रीनिंग की

उदयपुर (Udaipur). जिले में संक्रमण को रोकने हेतु चिकित्सा विभाग पूर्ण मुस्तैदी के साथ तत्पर …