UP में नेपाल की सीमा को क्यों कर दिया जाएगा सील?

indo-Nepal border

लोकसभा चुनाव को शांतिपूर्ण और निष्पक्ष तरीके से संपन्न कराने के लिए चुनाव आयोग कोई कसर नहीं छोड़ रहा है.

चुनाव को लेकर चुनाव आयोग जितना चौकन्ना है, यूपी प्रशासन भी उतनी ही सतर्कता बरत रहा है. इसी के चलते प्रशासन ने यूपी बॉर्डर से सटी नेपाल की सीमाओं को मतदान से 48 घंटे पहले सील करने का फैसला किया है.

आयोग के फैसले के हिसाब से महाराजगंज, सिद्धार्थ नगर, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर और पीलीभीत जिलों की सटी नेपाल की 550 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा सील कर दिया जाएगा.

इसके लिए सभी जिलों के पुलिस कप्तानों ने सुरक्षा की दृष्टि व निष्पक्ष चुनाव कराए जाने को लेकर यह कदम उठाया है. अंतरराष्ट्रीय सीमा से विदेशी घुसपैठ, अवैध हथियार, जाली नोट और मादक पदार्थों की तस्करी रोकने के लिए कड़ी चौकसी बरती जा रही है.

अंतरराष्ट्रीय सीमा की निगरानी के लिए तैनात सशस्त्र सीमा बल के जवान सीमा से दोनों पार आने-जाने वालों की बारीकी से जांच कर रहे हैं. अंतरराष्ट्रीय सीमा को जोड़ने वाले सभी कच्चे और पक्के मार्गों के अलावा नदी और नालों की निगरानी के लिए सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं.

सभी सीमाओं पर निगरानी के लिए सीसीटीवी लगाए गए हैं और अन्य सभी सुरक्षा एजेंसियों को चौकस कर दिया गया है.

नेपाल से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित पीलीभीत लोकसभा क्षेत्र में 23 अप्रैल को तीसरे चरण में, खीरी लोकसभा क्षेत्र में 29 अप्रैल को चौथे चरण में, बहराइच लोकसभा क्षेत्र में 6 मई को पांचवें चरण में, श्रावस्ती और डुमरियागंज लोकसभा क्षेत्र में 12 मई को छठे चरण में और महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र में 19 मई को सातवें चरण में मतदान होना है.


https://udaipurkiran.in/hindi

UP में नेपाल की सीमा को क्यों कर दिया जाएगा सील? DAINIK PUKAR. Dainik Pukar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*