सीएम गहलोत के खिलाफ केंद्रीय मंत्री का अमर्यादित बयान, कांग्रेस नेताओं ने की बयान की निंदा

जयपुर (jaipur) . कांग्रेस नेताओं ने राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के खिलाफ कथित अमर्यादित टिप्पणी करने पर केंद्रीय विधि एवं न्याय राज्यमंत्री एस.पी. सिंह बघेल पर गुरुवार (Thursday) को निशाना साधा. कांग्रेस नेताओं के अनुसार इस तरह की अमर्यादा का लोकतंत्र एवं सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं है.दरअसल बघेल ने उदयपुर (Udaipur) के खरसान में चुनावी सभा को संबोधित कर मुख्यमंत्री (Chief Minister) गहलोत पर 2018 विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के कांग्रेस घोषणा पत्र के वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगकर कथित अमर्यादित टिप्प्णी की.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्विटर पर बघेल की टिप्पणी का वीडियो साझा किया है. इसके साथ ही डोटासरा ने लिखा,स्वच्छ राजनीति में आलोचना के लिए संयमित एवं सैद्धांतिक मूल्यों को आत्मसात करना आवश्यक है, लेकिन मोदी सरकार मर्यादा भूल चुकी है.’’
डोटासरा ने कहा, केंद्रीय मंत्री बघेल द्वारा मुख्यमंत्री (Chief Minister) गहलोत पर की गई, अभद्र टिप्पणी की हम निंदा करते हैं, इसका सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं है. डोटासरा द्वारा शेयर किए वीडियों में केंद्रीय मंत्री कह रहे हैं,‘‘ ….जिसकी बात में फर्क होता है उसके बाप में फर्क होता है.’’

उन्होंने कहा, गहलोत जी बताएं कि आपने घोषणा पत्र में बोला था कि किसानों के कर्जे माफ कर दूंगा. (क्या कर्जे माफ) हुए? मुझे घोषणा पत्र पढ़ने का बहुत शौक है. मैंने कांग्रेस का घोषणा पत्र को पढ़ा कि कांग्रेस सरकार आएगी,तब बेरोजगारों को भत्ता दिया जाएगा……मिला हो तो बताओ? फिर कहा था कर्जे माफ करेंगे, हुआ हो तो बताओ? फिर कहा था चौबीस घंटे बिजली देंगे, दी हो तो बताओ?’’

बघेल ने कहा, तो मैं कह रहा था कि एक हजार झूठे जिस दिन मरे होंगे उस दिन गहलोत जी पैदा हुए होंगे. बघेल के बयान पर जयपुर (jaipur)में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय मंत्री का पुतला जलाकर उनसे माफी मांगने की मांग की. पूर्व उप मुख्यमंत्री (Chief Minister) सचिन पायलट ने भी कांग्रेस नेताओं के खिलाफ अमर्यादित के इस्तेमाल के लिए भाजपा नेताओं की आलोचना की है. पायलट ने अपने आवास पर जनसुनवाई के दौरान कहा कि केन्द्रीय राज्य मंत्री बघेल द्वारा कांग्रेस नेताओं के खिलाफ जो बयानबाजी की गई है, वह अमर्यादित है.

उन्होंने कहा कि राजनीति में वैचारिक विरोध स्वीकार्य होता है,परंतु इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करने से न सिर्फ स्वयं की साख को ठेस पहुंचती है, बल्कि जनता में भी नकारात्मक संदेश जाता है. उन्होंने कहा कि भाजपा नेता अपने अनर्गल बयानों के लिए जनता से माफी मांगें.

वहीं गहलोत सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बघेल की निंदा करते हुए कहा,‘‘ इस तरह की अमर्यादित टिप्पणी सहन नहीं की जा सकती. भाजपा को इसकी कीमत उपुचनाव में चुकानी होगी. राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) के खिलाफ इस तरह की टिप्प्णी कोई पसंद नहीं करता. सरकार में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा,‘‘केंद्रीय मंत्री बघेल के मुख्यमंत्री (Chief Minister) गहलोत के लिए अपमानजनक शब्दों से यह स्पष्ट हो गया है की आने वाले उपचुनावों में भाजपा की हार तय है. खाचरियावास ने कहा कि केंद्रीय मंत्री ने सीएम गहलोत का ही नहीं बल्कि पूरे राजस्थान (Rajasthan) का अपमान किया है और इसका जवाब जनता उन्हें उपचुनावों में देगी. उन्होंने कहा कि भाजपा नेता अपनी सरकार के कामों की बात करे.

Check Also

इस हफ्ते 10 करोड़ हो जाएगी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों का आंकड़ा …