उदयपुर कलक्टर देवड़ा ने ली जल जीवन मिशन की बैठक : 83 हजार घरों तक पेयजल पहुंचाना ही मिशन का मकसद: कलक्टर

उदयपुर (Udaipur). जिला कलक्टर (District Collector) चेतन देवड़ा ने कहा है कि जल जीवन मिशन के तहत जिले के 83 हजार घरों तक शुद्ध पेयजल पहुंचाना मिशन का मकसद है और इस मकसद को पूरा करने के लिए विभागीय अधिकारी-कर्मचारी कार्ययोजना के अनुसार पूरी निष्ठा के साथ कार्य करें.

कलक्टर देवड़ा बुधवार (Wednesday) को जिला स्तरीय जल एवं स्वच्छता समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जल जीवन मिशन के तहत प्रगति की समीक्षा कर रहे थे.
इस दौरान कलक्टर ने उदयपुर (Udaipur) जिले में जल जीवन मिशन के तहत स्वीकृत एवं प्रस्तावित योजनाओं की प्रगति को लेकर कलक्टर देवड़ा ने विभाग के अधिकारियों से चर्चा की. कलक्टर ने निर्धारित योजनाओं की प्रगति, इनसे लाभांवित होने वाले परिवारों और इसमें आ रही समस्याओं के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली और एक्शन प्लान के तहत योजनाओं को निर्धारित समयावधि में पूर्ण करने के निर्देश दिए.

पेयजल हो सर्वोच्च प्राथमिकता:

कलक्टर देवड़ा ने बैठक में उपस्थित सहायक अभियंताओं व अधीशाषी अभियंताओं से इस साल निर्धारित लक्ष्य के मुताबिक जिले में 82,977 घरांे में नल कनेक्शन करने के निर्देश दिए. कलक्टर ने कहा कि घरों में शुद्ध पेयजल पहुंचाना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में आता है. इसलिए इन लक्ष्यों को जल्द से जल्द पूरा करने का प्रयास करें. कलक्टर ने विलेज एक्शन प्लान, स्कूल व आंगनबाड़ी में पेयजल पाइप लाइन से नल कनेक्शन करने, पावर कनेक्शन उपलब्ध कराने में आ रही समस्याओं, जल जीवन मिशन की समीक्षा उपखंड स्तरीय सोमवार (Monday) बैठक में करने, भूजल की उपलब्धता व रिचार्ज स्ट्रक्चर सहित अन्य विभागों से सहयोग के मुद्दे पर चर्चा की.

15 दिनों में सर्वे पूर्ण करने के निर्देश:

बैठक दौरान कलक्टर देवड़ा ने जिले के स्कूल और आंगनवाड़ी केन्द्रों में नल कनेक्शन की उपलब्धता की समीक्षा की तो जिला परिषद सीईओ डॉ. मंजू ने बताया कि जिले के 138 स्कूल व 322 आंगनवाड़ी केन्द्रों कुल 460 में कनेक्शन की स्वीकृति दी गई है जबकि 204 में स्वीकृति प्रक्रियाधीन है. कलक्टर ने जिले के 4049 स्कूलों व 3035 आंगनवाड़ी केन्द्रों तक पेयजल उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए और कहा कि शिक्षा, महिला एवं बाल विकास तथा चिकित्सा विभाग ऐसे समस्त संस्थाओं का सर्वे करें जिनके 500 मीटर पास तक नल लाईन निकल रही हो. उन्होंने सर्वे कार्य 15 दिनों में पूर्ण करते हुए सूचना उपलब्ध कराने के निर्देश दिए.

इससे पूर्व बैठक में जिला जल एवं स्वच्छता मिशन के सदस्य सचिव व अधीक्षण अभियंता पीएचईडी विपीन जैन ने बताया कि जिले में पेयजल आपूर्ति के लिए 742 योजनाओं में से 498 को राज्य स्तर से स्वीकृति दे दी गई है, इसमें से 378 के टेंडर हो चुके हैं वहीं 35 के वर्क ऑर्डर भी जारी कर दिए गए है. उन्होंने बताया कि शेष योजनाओं की स्वीकृति के लिए संशोधित प्रस्ताव राज्य स्तर पर भेजे गए हैं. उन्होंने यह भी बताया कि जिले में 208 सरफेस वाटर सोर्स में वाटर रिजर्वेशन बढ़ाया है वहीं 299 सरफेस वाटर सोर्स को लेकर स्वीकृति भी जारी कर दी है. बैठक में कलक्टर ने जिला परिषद सीईओ डॉ. मंजू सहित पीएचईडी के ब्लॉक स्तरीय अभियंताओं व विभिन्न विभागीय अधिकारियों से जल जीवन मिशन की सफलता के लिए की जा रही कार्यवाही व प्राप्त हो रही समस्याओं के बारे में फिडबैक लिया.

Check Also

सीएम गहलोत के खिलाफ केंद्रीय मंत्री का अमर्यादित बयान, कांग्रेस नेताओं ने की बयान की निंदा

जयपुर (jaipur) . कांग्रेस नेताओं ने राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok …