राफेल विमानों के फ्रांस से भारत आने में मददगार बनेगा यूएई

नई दिल्ली (New Delhi) . भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने खाड़ी देशों के साथ मजबूत रिश्ते के बारे में बताया है. 16 दिसंबर को उन्होंने विदेश मंत्रालय की सलाहकार समिति की बैठक में कहा कि पीएम मोदी के प्रयासों की वजह से भारत और खाड़ी देशों के साथ रिश्ते मजबूत हुए हैं. अब फ्रांस से आने वाले राफेल विमानों को संयुक्त राष्ट्र अमीरात भारत पहुचंने से पहले हवा में ही रिफ्यूल करने में मदद करेगा. यूएई एयर फोर्स का एयरबस मल्टी रोल ट्रांसपोर्ट टैंकर 8 घंटे नॉन स्टॉप उड़ान भरने वाले राफेल में दो बार हवा में ही ईंधन भरेगा. इससे पहले जब पांच राफेल लड़ाकू विमान फ्रांस से भारत आए थे तो फ्रेंच मल्टी रोल ट्रांसपोर्ट टैंकर ने चार बार ईंधन भरा था. वहीं अब यूएई का राफेल में ईंधन भरने का फैसला भारत और संयुक्त राष्ट्र अमीरात के साथ और रिश्ते मजबूत करेगा. वहीं भारत लगातार ताकतवर देशों से अपने रक्षा संबंधों को मजबूत कर रहा है, हाल ही में भारत ने रूस के साथ अपना सैन्य अभ्यास खत्म किया है, अब खबर है कि अगले कदम में फ्रांस, भारत और यूएई के बीच सैन्य अभ्यास होगा. सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के कूटनीतिक सलाहकार इमैनुएल बोन ने पिछले दिनों हुई मुलाकात के दौरान तीनों देशों के बीच सैन्य अभ्यास को लेकर बात की थी.

Check Also

सेरावीक वैश्विक ऊर्जा एवं पर्यावरण नेतृत्व’ पुरस्कार से नवाजे जाएंगे पीएम मोदी

वॉशिंगटन . अगले सप्ताह वार्षिक अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा सम्मेलन में ‘सेरावीक वैश्विक ऊर्जा एवं पर्यावरण नेतृत्व’ …