बैमौसम बारिश के कारण टमाटर हुआ लाल, कीमतें खुदरा बाजार में 72 रुपये किलो पहुंची

नई दिल्ली (New Delhi) . मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) और महाराष्ट्र (Maharashtra) जैसे प्रमुख उत्पादक राज्यों में बेमौसम बारिश की वजह से मेट्रो शहरों के खुदरा बाजारों में टमाटर की कीमतें 72 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई हैं. महानगरों में, टमाटर के खुदरा मूल्य में सबसे अधिक वृद्धि कोलकाता (Kolkata) में देखी गई, जहां टमाटर की कीमत 12 अक्टूबर को 72 रुपये प्रति किलोग्राम थी, जबकि एक महीने पहले यह कीमत 38 रुपये प्रति किलोग्राम थी.

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली और चेन्नई (Chennai) में, टमाटर की खुदरा कीमतें एक महीने पहले की तुलना में क्रमशः 30 रुपये और 20 रुपये प्रति किग्रा से बढ़कर 57 रुपये प्रति किलोग्राम हो गईं. आंकड़ों से पता चलता है कि मुंबई (Mumbai) में, खुदरा बाजारों में टमाटर की कीमत पहले के 15 रुपये किलो से बढ़कर 53 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई. टमाटर की खुदरा कीमतें गुणवत्ता और बिक्री वाले इलाके के आधार पर भिन्न होती हैं.

खबरों के अनुसार,मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र (Maharashtra) जैसे उत्पादक राज्यों में बेमौसम बारिश ने फसल को नुकसान पहुंचाया है,इससे दिल्ली जैसे उपभोक्ता बाजारों में आपूर्ति प्रभावित हुई है. इससे थोक और खुदरा दोनों बाजारों में कीमतों में वृद्धि हुई है. दिल्ली की आजादपुर मंडी फलों और सब्जियों के लिए एशिया का सबसे बड़ा थोक बाजार है. उन्होंने कहा कि यहां तक कि शिमला (Shimla) जैसे पहाड़ी क्षेत्रों में भी बेमौसम बारिश के कारण फसल प्रभावित हुई है. उन्होंने कहा कि बेमौसम बारिश वाले उत्पादक राज्यों में टमाटर की 60 प्रतिशत फसल बेकार हो गई है.इसकारण एक महीने में टमाटर की कीमतें आजादपुर मंडी में लगभग दोगुनी होकर 40-60 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई हैं, क्योंकि इस सब्जी की दैनिक आवक 250-300 टन रह गई है.

मौजूदा समय में, मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) , आंध्रप्रदेश (Andhra Pradesh) और कर्नाटक (Karnataka) के प्रमुख उत्पादक राज्यों में कटाई चल रही है. टमाटर की फसल बोने के लगभग दो-तीन महीने में कटाई के लिए तैयार हो जाती है और बाजार की आवश्यकता के अनुसार कटाई की जाती है. नेशनल हॉर्टिकल्चरल रिसर्च एंड डेवलपमेंट फाउंडेशन के अनुसार, चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा टमाटर उत्पादक देश भारत, 7.89 लाख हेक्टेयर क्षेत्र से लगभग 25.05 टन प्रति हेक्टेयर की औसत उपज के साथ करीब 1.975 करोड़ टन टमाटर का उत्पादन करता है.

Check Also

ममता बनर्जी और उनकी पार्टी बीजेपी की बी टीम की तरह काम करती : अधीर रंजन चौधरी

नई दिल्‍ली . लोकसभा (Lok Sabha) में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने पश्चिम …