जयंत चौधरी की इस घोषणा से गरमाई पश्चिमी यूपी की राजनीति

मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) र . यूपी के चुनाव दूर हैं लेकिन राजनीतिक दलों ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) को साधना शुरू कर दिया है. 72 विधानसभा सीटों वाले इस वृह्द उप प्रदेश में एक से बढ़कर एक घोषणाएं हो रही हैं. मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) र में राष्ट्रीय लोकदल ने बड़ा दांव खेलते हुए सरकार बनने पर हाईकोर्ट बेंच देने की घोषणा कर दी है. रालोद मुखिया जयंत चौधरी ने कहा कि हम पश्चिमी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और बुंदेलखंड में हाईकोर्ट बेंच देंगे. मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) र में आशीर्वाद रैली को संबोधित करते हुए जयंत ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की यह काफी पुरानी मांग है, जिसे सरकार बनने पर हम पूरा करेंगे. इसका भीड़ ने समर्थन भी किया. एक दिन पहले ही सपा मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) अखिलेश यादव ने सहारनपुर में किसान फंड बनाने की घोषणा की थी. पश्चिमी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पिछले छह दशक से हाईकोर्ट बेंच की मांग शिद्दत से उठ रही है. पिछले चार दशक से अधिवक्ता हर शनिवार (Saturday) हड़ताल कर रहे हैं. अब इसमें माह का दूसरा बुधवार (Wednesday) भी जोड़ दिया गया है. 1980 के लोकसभा (Lok Sabha) चुनाव के बाद अभी तक किसी भी राजनीतिक दल में हाईकोर्ट बेंच देने का वादा खुले मंच से करने का साहस नहीं दिखाया. खुद जयंत चौधरी के पिता चौधरी अजित भी खुले मंच से इसका वादा नहीं कर सके. 1980 में पूर्व केंद्रीय मंत्री और मेरठ (Meerut) से कांग्रेस की प्रत्याशी मोहसिना किदवाई ने वादा किया था. लेकिन पूर्वांचल के दबाव में यह मांग पूरी न हो सकी. इसी दबाव में सभी राजनीतिक दल हाईकोर्ट बेंच के मुद्दे से अपने को सार्वजनिक रूप से अलग करते रहे हैं.

Check Also

देश में मिले कोरोना के 14,623 मरीज, 197 की मौत

नई दिल्ली (New Delhi) . भारत में कोरोना (Corona virus) संक्रमण में मामूली इजाफा दर्ज …