काली मिर्च सेवन के कई है फायदे

नई दिल्ली (New Delhi) . आमतौर पर काली मिर्च का सबसे ज्यादा इस्तेमाल मसालों के रूप में किया जाता है. हालांकि दवाई के रूप में इसका इस्तेमाल सदियों से सर्दी-खांस में किया जाता रहा है. ताजा अध्ययन के अनुसार, इसमें पाए जाने वाले हाई एंटीऑक्सीडेंट्स होने के कारण यह ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल के लेवल को भी कम करने में सहायक है. इसे विज्ञान ने भी प्रमाणित किया है. काली मिर्च ब्रेन की हेल्थ के लिए भी अच्छी मानी जाती है.

इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी गुण भी पाया जाता है, जो कैंसर से लड़ने में भी सहायक है. वहीं काली मिर्च खांसी-जुकाम को ठीक करने में तो मददगार साबित होती ही है. तो यहां हम आपको काली मिर्च के फायदे बता रहे हैं-काली मिर्च में बहुत ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो बॉडी से फ्री रेडिकल को खत्म करने में सहायक है. फ्री रेडिकल के कारण सूजन, प्रिमेच्योर एजिंग, हार्ट डिजीज, कैंसर आदि बीमारी होती है. सूजन की समस्या होने के कारण ऑर्थराइटिस, डायबिटीज, कैंसर जैसी समस्या हो सकती है. काली मिर्च में पिपेरीन कंपाउंड पाया जाता है, जो सूजन के खिलाफ कारगर हथियार है. यह शरीर की कोशिकाओं में सूजन बनने से रोकती है.एक अध्ययन में पाया गया है कि पिपेरीन ब्रेन फंक्शन को सुचारू रूप से चलाने में भी मददगार है. अध्ययन के मुताबिक काली मिर्च अल्जाइमर और पर्किंसन की बीमारी से भी बचाने में मदद करती है. चूहों पर किए गए अध्ययन में यह साबित हुआ कि काली मिर्च ब्लड शुगर मेटाबोलिज्म में सुधार करती है. यह इंसुलिन को भी नियंत्रित करती है.

एक अध्ययन के मुताबिक काली मिर्च में पाए जाने वाले कंपाउड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को तेजी से कम करते हैं. काली मिर्च का नियमित इस्तेमाल करने से भूख कम लगती है, इसलिए यह मोटापे पर नियंत्रण के लिए भी फायदेमंद है. अगर सर्दी-जुकाम से बहुत ज्यादा परेशान हैं तो रात में सोते वक्त काली मिर्च को गर्म दूध में मिला कर पी लें. सुबह तक फर्क महसूस करने लगेंगे. अगर आपको कफ की शिकायत है और इससे मुक्ति नहीं मिल रही है, तो आप एक चम्मच शहद में 3 बारीक काली मिर्च के पाउडर के साथ एक चुटकी हल्दी मिलाकर उसका सेवन करें. ऐसा करने से कफ की समस्या से छुटकारा मिल सकता है. बता दें कि आमतौर पर काली मिर्च को लोग सर्दी-खांसी के लिए ही इस्तेमाल करते हैं, लेकिन इसके कई ऐसे फायदे हैं जिसे लोग बहुत कम जानते हैं.

Check Also

वर्क फ्रॉम होम कल्चर से 41 प्रतिशत लोगों की रीढ़ की हड्डी को पहुंचा नुकसान

नई दिल्ली (New Delhi) . वैश्विक महामारी (Epidemic) कोरोना (Corona virus) के कारण वर्क फ्रॉम …