टीसी लेने गई छात्रा को शिक्षक ने गलत तरीके से छुआ : दोस्ती करने, संबंध बनाने की बात भी कही

जालौर (Jalore) . राजस्थान (Rajasthan) में सरकारी स्कूलों में छात्राओं से छेड़छाड़ के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. झुंझुनूं और सीकर (Sikar) जिले में छात्राओं के साथ हुई ही घिनौनी हरकतों के बाद जालौर (Jalore) में एक शिक्षक ने महिला प्रिंसिपल की मौजूदगी में छात्रा को मार्कशीट देने के लिए इशारा कर अलमारी के पीछे बुलाया. कपड़ों के बहाने अश्लील फब्तियां कसते हुए अश्लील इशारे किए. छात्रा का आरोप है कि इस दौरान शिक्षक ने गलत तरीके से छात्रा को छूते हुए दोस्ती करने और अवैध संबंध बनाने की बात कही. पुलिस (Police) ने पीड़िता की रिपोर्ट पर शिक्षक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

जानकारी के अनुसार घटना एक राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय की है. वहां 30 सितंबर को स्कूल में प्रिंसिपल ऑफिस में ही अध्यापक ने 12वीं की छात्रा से छेड़छाड़ कर दी. इस दौरान प्रिंसिपल भी ऑफिस में थीं, लेकिन अध्यापक सुनील कुमार (35) ने अलमारी के पीछे बुलाकर छात्रा का उत्पीड़न किया. पीड़िता मार्कशीट और टीसी लेने स्कूल गई थी. पीड़िता ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि उसने 30 सितंबर को परीक्षा प्रभारी व वरिष्ठ शिक्षक सुनील कुमार के पास जाकर अंकतालिका मांगी थी. आरोपी शिक्षक कक्षा छोड़कर उसे प्रिंसिपल रूम में ले आया. उस समय प्रिंसिपल कम्प्यूटर पर कार्य में व्यस्त थीं.

आरोपी ने मार्कशीट के लिए इशारा कर अलमारी के पीछे बुलाया. कपड़ों के बहाने अश्लील फब्तियां कसते हुए आंखों से अश्लील इशारे किए. उसके बाद रजिस्टर पर हस्ताक्षर करवाकर मार्कशीट दे दी. छात्रा का आरोप है कि कुछ मिनट बाद ही शिक्षक सुनील कुमार ने हस्ताक्षर सही नहीं करने की बात कहते हुए दोबारा पास में बुलाते हुए सही हस्ताक्षर सिखाने की बात कही. इस दौरान शिक्षक ने गलत तरीके से छूते हुए धीमी आवाज में दोस्ती करने और अवैध संबंध बनाने की बात कही. पुलिस (Police) को दी रिपोर्ट में छात्रा ने यह भी लिखा कि जालौर (Jalore) जिले का बालिका उच्च शिक्षा में पिछड़ने का एक मुख्य कारण स्कूलों में सुनील कुमार जैसे व्यभिचारी का होना है जिनकी वजह से कई छात्राएं बीच में स्कूल छोड़ देती हैं. पुलिस (Police) पूरे मामले की जांच में जुटी है.

Check Also

इस हफ्ते 10 करोड़ हो जाएगी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों का आंकड़ा …