खतरनाक है कोरोना महामारी की दूसरी लहर मौत के आंकड़े दे रही गवाही

नई दिल्ली (New Delhi) . भारत में कोरोना महामारी (Epidemic) की दूसरी लहर की शुरुआती कुछ हफ्तों में मृत्यु दर में वृद्धि नहीं देखी गई थी, लेकिन पिछले चार हफ्तों में इसमें काफी बदलाव आया है. ये बदलाव डराने वाले हैं. 8 मार्च के बाद से, कोरोना से संबंधित मौतें उसी रफ्तार से बढ़ी हैं, जिस रफ्तार से इसका संक्रमण. आपको बता दें कि इस अवधि के दौरान दैनिक मामलों और मौत में 345% की वृद्धि देखी गई है.कोरोना से होने वाले दैनिक मृत्यु (सात-दिन का औसत) आठ मार्च का आंकड़ा 96 से बढ़कर 4 अप्रैल को 425 हो गया है, जो कि लगभग 4.5 गुना (guna) की वृद्धि दिखा रहा है.

पिछले चार हफ्तों (8 फरवरी से 8 मार्च) में, औसत दैनिक मामलों में 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई. महामारी (Epidemic) की वजह से मरने वालों की संख्या हाल में जो बढ़े हैं, वह शुरुआती दिनों के बाद से सबसे तेज है. पिछले सप्ताह (29 मार्च से 4 अप्रैल) में कोरोना के कारण 2,974 मृत्यु दर्ज की गई है, जो कि उससे पहले सप्ताह (1,875) की तुलना में 59 प्रतिशत अधिक है. आपको बता दें कि कोरोनो वायरस के प्रकोप के बाद भारत में सबसे तेज गति से यह वृद्धि देखी गई है. पिछले दो सप्ताहों में कोरोना से मरने वालों की संख्या में क्रमशः 51 और 41 प्रतिशत तक की वृद्धि देखी गई.

हालांकि बीते साल 15-21 जून की की तुलना में यह कम है. जाहिर है, आने वाले हफ्तों में मौतों की बारीकी से निगरानी की जानी चाहिए. आपको बता दें कि सोमवार (Monday) को भारत में एक दिन में कोविड-19 (Covid-19) के अब तक के सर्वाधिक 1,03,558 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,25,89,067 हो गई. आंकड़ों के अनुसार, देश में कोविड-19 (Covid-19) के प्रसार के बाद से पिछले साल 17 सितम्बर को एक दिन में सर्वाधिक 97,894 नए मामले सामने आए थे. राज्यों के आंकड़ों को देखें तो महाराष्ट्र (Maharashtra) में 47,288, छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में 7,302 मामले सामने आए थे.

Check Also

राजस्‍थान में तूफान ताउते ने डूंगरपुर में मचाई तबाही, बिजली गिरने से 4 की मौत

जयपुर (jaipur) . देश और प्रदेशो में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने तबाही मचा …