भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा खिलौनों के मानकीकरण और खिलौना सेक्टर के नियमन के महत्त्व पर भी चर्चा की गई

नई दिल्ली (New Delhi) . आजादी का अमृत महोत्सव प्रगतिशील भारत तथा भारतवासियों के गौरवशाली इतिहास, संस्कृति और उपलब्धियों के 75 वर्ष होने की याद में उत्सव मनाने के लिये भारत सरकार की एक पहल है. भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) भी आजादी के अमृत महोत्सव @75 में हिस्सा ले रहा है तथा इस क्रम में वह विभिन्न विषयों पर संगोष्ठियों/वेबिनारों का आयोजन कर रहा है. संगोष्ठियों/वेबिनारों की श्रृंखला के सिलसिले में भारतीय मानक ब्यूरो ने 23 नवंबर,को ‘मेक इन इंडिया प्लेइंग सेफ विद टॉयज’ विषय पर वेबिनार का आयोजन किया.

वेबिनार में खिलौना निर्माताओं; फिक्की, ऑल इंडिया टॉय मैनूफैक्चरर्स, टॉयज एसोसियेशन ऑफ इंडिया आदि जैसे उद्योग संघों; राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान, विटी इंटरनेशनल स्कूल, वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद – भारतीय विष विज्ञान अनुसंधान संस्थान जैसी संस्थाओं; टीयूवी, इंडियन रबर मैनूफैक्चरिंग रिसर्च एसोसियेशन, एसजीएस जैसी परीक्षण प्रयोगशालाओं तथा अन्य ने हिस्सा लिया. वक्ताओं ने विभिन्न आयुवर्ग के बच्चों में खेल-खेल में खिलौनों से सीखने की क्षमता के विकास के बारे में उनकी डिजाइन की भूमिका, खिलौनों के सुरक्षा पक्षों तथा खिलौनों के परीक्षण की आवश्यकता पर प्रकाश डाला. वेबिनार में बीआईएस द्वारा खिलौनों के मानकीकरण गतिविधियों, खिलौना सेक्टर के नियमन के महत्व, मेक इन इंडिया खिलौनों के निर्यात तथा खिलौना उद्योगों में हाल में हुई प्रगति/नवाचार पर भी चर्चा की गई.

Check Also

ताइवान में अनुकूल परिस्थितियों से बुजुर्गों के जीवन में आया सुख-संतोष, औसत उम्र बढ़ी

  ताइपे . ताइवान के लोग पहले की तुलना में लंबा जीवन जी रहे हैं …