बौद्ध सर्किट टूरिस्ट ट्रेन के ज़रिये भारत के प्रमुख बौद्ध स्थलों की व्यापक यात्रा का अवसर देता


नई दिल्ली (New Delhi) . पर्यटन मंत्रालय ने ‘देखो अपना देश’ वेबिनार श्रृंखला के एक हिस्से के रूप में 16 जनवरी, 2021 को “ट्रेन द्वारा बौद्ध सर्किट की यात्रा” शीर्षक से एक रोचक वेबिनार का आयोजन किया. इस वेबिनार के माध्यम से भारत की समृद्ध बौद्ध विरासत को बढ़ावा देने और इसका प्रदर्शन करने पर ध्यान केंद्रित किया गया, इतना ही नहीं भगवान बुद्ध द्वारा देश भर में व्यक्तिगत रूप से भ्रमण किए गए स्थलों के अलावा उनके शिष्यों द्वारा बनाये गये बौद्ध मठों को दर्शाया गया है, जिसमें आधुनिक मठ भी शामिल हैं. इसके अतिरिक्त, वेबिनार में भारत के बौद्ध स्थलों की यात्रा (विशेष रूप से ट्रेन द्वारा) और ठहरने की व्यवस्था के लिए दर्शकों को प्राथमिक जानकारी प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित किया गया.

वेबिनार की शुरुआत पर्यटन मंत्रालय के उप महानिदेशक अरुण श्रीवास्तव के संबोधन से हुई. उन्होंने कहा कि, भारत के बौद्ध पर्यटन में दुनिया भर के 50 करोड़ बौद्धों को “भारत-बुद्ध की भूमि” की तरफ आकर्षित करने की जबरदस्त क्षमता है. उन्होंने कहा कि, भारत में भगवान बुद्ध के जीवन से जुड़े कई महत्वपूर्ण स्थलों के साथ एक समृद्ध प्राचीन बौद्ध धरोहर है और दुनिया भर से आने वाले बौद्ध धर्म के अनुयायियों के मन में भारतीय बौद्ध विरासत के प्रति बहुत गहरी रुचि है.

अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि, बौद्ध धर्म एक महत्वपूर्ण शक्ति, एक प्रेरणा और सबसे बढ़कर, हमारी परंपराओं एवं रीति-रिवाजों का एक मार्गदर्शन है. संक्षेप में, संस्कृति के विभिन्न क्षेत्रों में इसके अद्वितीय योगदान ने भूमि की धार्मिक विविधता को जोड़ने के अलावा, भारतीय सांस्कृतिक विरासत को बहुत अधिक समृद्ध किया है.
भारतीय रेलवे (Railway)खानपान और पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) के संयुक्त महाप्रबंधक (पर्यटन और विपणन) डॉ अच्युत सिंह द्वारा यह वेबिनार प्रस्तुत किया गया था. डॉ अच्युत सिंह ने भगवान बुद्ध के जीवन और उनकी शिक्षाओं के बारे में जानकारी प्रदान करने के साथ इस कार्यक्रम की शुरुआत की.

उन्होंने बताया कि, आईआरसीटीसी बुद्धिस्ट सर्किट टूरिस्ट ट्रेन की कल्पना बौद्ध धर्म के सबसे सम्मानित स्थलों की यात्रा करने के लिए की गई थी, जिनमें से वह स्थान भी शामिल है, जहां पर भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था. यह पर्यटक ट्रेन उन सभी स्थानों को कवर करती है, जिनका भगवान बुद्ध के जीवन और शिक्षाओं पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा.

2021-01-18
Previous डीएसटी के वैज्ञानिकों को स्व-चालित अस्थिरताओं के असंगत व्यवहार का सुराग मिला
Next सैलाना के कांग्रेस विधायक ने SDM को सरेआम धमकाया

Check Also

मप्र में पिछले 20 दिन में 774 मौतें : 24 घंटे में 13,107 नए केस, 75 मौतें, अप्रैल के अब तक 1.45 लाख लोग हो चुके कोरोना संक्रमित

-अब तक 4,788 मौतें, इसमें से 774 पिछले 20 दिनों में हुईं, पॉजिटिविटी रेट 24 …

Exit mobile version