कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से ब्राजील में हाहाकार, नर्स बोली- यह हॉरर मूवी जैसा

ब्रासीलिया . जानलेवा वायरस कोरोना के कहर से पहले से बेहाल ब्राजील में इसके नए स्ट्रेन से हाहाकार मचा है. अस्पताल मरीजों से भरे पड़े हैं, वैक्सीन सीमित लोगों को ही मिल पा रही है. अस्पताल में स्टाफ लगातार काम कर रहा है, लोग ऑक्सिजन लेने की लाइन में लगे हुए हैं. बीते मंगलवार (Tuesday) को ब्राजील में 1700 लोगों ने कोरोना से जान गंवा दी. यह आंकड़ा महामारी (Epidemic) के आने के बाद से सबसे ज्यादा है.

विशेषज्ञ इसके पीछे की वजह नए स्ट्रेन को बता रहे हैं. उनका कहना है कि ब्राजील के हालात दूसरे देशों के लिए कड़ी चेतावनी हैं. शुरुआती स्टडी से पता चला है कि नया स्ट्रेन ज्यादा संक्रामक ही नहीं है बल्कि कई ठीक हुए लोग भी इससे बीमार हुए हैं. साउ पाउलो शहर में आंशिक लॉकडाउन (Lockdown) लगा दिया गया है. बार-रेस्तरां में लोगों के आने पर पाबंदी है. वहीं, कई राज्यों के गवर्नर और ब्राजील की जनता राष्ट्रपति जायर बोल्सोना (Gold)रो की आलोचना कर रही है.

इस बीच बोल्सोना (Gold)रो ने जनता से कहा कि आप लोग कब तक घरों में बैठे रहोगे? कब तक सबकुछ बंद रखेंगे? हमें मौतों का दुख है लेकिन हमें समाधान चाहिए. उन्होंने लोगों से कहा कि आंसू बहाना छोड़ें और काम पर जाएं. वहीं, ब्राजील के राज्य एमेजॉनस के अस्पतालों में ऑक्सिजन की भारी कमी है. एक नर्स (Nurse) मारिया ग्लोदीमर ने बताया कि परिजन अपने मरीजों के लिए ऑक्सिजन मांग रहे हैं. हम कोई फैसला नहीं ले पा रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह एक हॉरर मूवी जैसा है. उन्होंने कहा कि हम इस हालात के लिए बिल्कुल तैयार नहीं थे. विशेषज्ञों का कहना है कि ब्राजील में मिला नया स्ट्रेन तेजी से फैला है.

ऐमजॉनस राज्य में जिन सैंपल्स की जांच की गई उनमें 91 फीसदी में यह पाया गया. देश के 26 में से 21 राज्यों में यह नया स्ट्रेन फैल गया है. एक डॉक्टर (doctor) ने बताया कि उसके जो साथी कोरोना से ठीक हुए थे वे दोबारा पॉजिटिव पाए गए हैं. ब्राजील में वैक्सिनेशन तेजी से नहीं हो पा रहा है. बीते मंगलवार (Tuesday) तक देश में 50 लाख से ज्यादा लोगों को पहली डोज दी जा चुकी थी जो आबादी का सिर्फ 2.6 फीसदी है. यहां चीन की वैक्सीन दी जा रही है जो नए स्ट्रेन पर कम प्रभावकारी है. एक विशेषज्ञ ने कहा कि हमें रोजाना 10 लाख लोगों को टीका देना होगा लेकिन हमारे पास इतनी वैक्सीन ही नहीं है. उन्होंने कहा कि आप अपनी पूरी जनसंख्या को टीका देकर कुछ समय के लिए बीमारी रोक सकते हैं लेकिन दुनिया में किसी जगह तब तक नया वैरिएंट आ जाएगा.

Check Also

कोरोना से ठीक होने के बाद भी नहीं टलता मौत का खतरा

वाशिंगटन . कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में अगले छह महीनों तक मौत का …