वस्त्र मंत्रालय ने 160 करोड़ रु के साथ व्यापक हस्तशिल्प क्लस्टर विकास योजना को जारी रखने की मंजूरी दी

नई दिल्ली (New Delhi) . वस्त्र मंत्रालय ने 160 करोड़ रु के कुल परिव्यय के साथ व्यापक हस्तशिल्प क्लस्टर विकास योजना (सीएचसीडीएस) को जारी रखने की मंजूरी दी है. यह योजना मार्च, 2026 तक जारी रहेगी. इस योजना के तहत हस्तशिल्प कारीगरों को बुनियादी ढांचागत सहायता, बाजार तक पहुंच, डिजाइन और प्रौद्योगिकी उन्नयन से जुड़ी सहायता आदि प्रदान की जाएगी. सीएचसीडीएस का उद्देश्य विश्वस्तरीय बुनियादी ढांचा तैयार करना है, जो उत्पादन और निर्यात को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय कारीगरों व लघु एवं मध्यम उद्यमों (एसएमई) की व्यावसायिक जरूरतों को पूरा करता हो. संक्षेप में, इन समूहों को स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य कारीगरों और उद्यमियों को आधुनिक बुनियादी ढांचे, नवीनतम प्रौद्योगिकी व पर्याप्त प्रशिक्षण और मानव संसाधन विकास इनपुट, मार्केट लिंकेज और उत्पादन संबंधी विविधीकरण के साथ जुड़ाव युक्त विश्वस्तरीय इकाइयां स्थापित करने में सहायता करना है. सीएचसीडीएस के तहत बेसलाइन सर्वे और गतिविधियों का लेखा-जोखा, कौशल प्रशिक्षण, उन्नत टूल किट, मार्केटिंग इवेंट, सेमिनार, प्रचार, डिजाइन कार्यशाला, क्षमता निर्माण आदि जैसे सॉफ्ट इंटरवेंशन प्रदान किए जाएंगे. इसके अलावा कामन सर्विस सेंटर, एम्पोरियम, कच्चे माल को रखने के लिए जगह, ट्रेड फैसिलिटेशन सेंटर, सामान्य उत्पादन केंद्र, डिजाइन और संसाधन केंद्र जैसे हार्ड इंटरवेंशन भी प्रदान किए जाएंगे.

Check Also

ममता बनर्जी और उनकी पार्टी बीजेपी की बी टीम की तरह काम करती : अधीर रंजन चौधरी

नई दिल्‍ली . लोकसभा (Lok Sabha) में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने पश्चिम …