तेदेपा ने एनटीआर के लिए भारत रत्‍न की मांग दोहराई – indias.news

अमरावती, 12 फरवरी . भारत सरकार ने इस साल पांच हस्तियों को भारत रत्‍न से सम्मानित किए जाने की घोषणा की है, इसके बाद तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) ने पार्टी के संस्थापक और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत एन.टी. रामाराव को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित करने की अपनी मांग दोहराई है.

तेदेपा लंबे समय से मशहूर दिवंगत अभिनेता और राजनेता एन.टी. रामाराव के लिए भारत रत्‍न की मांग कर रही है, जो एनटीआर के नाम से लोकप्रिय थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को संबोधित अलग-अलग पत्रों में तेदेपा के राज्यसभा सदस्य कनकमेदाला रवींद्र कुमार ने कहा कि संयुक्त आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में एनटीआर ने सभी परिवारों के लिए 2 रुपये प्रति किलोग्राम चावल, जनता वस्त्रालु और किसानों को 50 रुपये प्रति हॉर्स की दर पर बिजली की आपूर्ति जैसी कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की थीं.

एनटीआर ने पटेल-पटवारी प्रणाली को भी समाप्त कर दिया, जो उस समय तेलंगाना में प्रचलित थी और स्थानीय बोली पर आधारित प्रशासन संरचना शुरू करने के अलावा प्रशासन का विकेंद्रीकरण किया.

रवींद्र कुमार ने लिखा कि महिलाओं और पिछड़े वर्ग (बीसी) के राजनीतिक सशक्तिकरण के लिए आरक्षण विधेयक की शुरुआत दिवंगत नेता की दूरदर्शिता का प्रमाण है.

तेदेपा सांसद ने बताया कि राष्ट्रीय स्तर पर भी एनटीआर ने नेशनल फ्रंट (एनएफ) के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिसमें तेदेपा के साथ जनता दल, असम गण परिषद और अन्य दल शामिल थे, और वह इस मोर्चे के अध्यक्ष बने.

उन्होंने कहा कि एनटीआर ने 1989 में केंद्र में गैर-कांग्रेसी सरकार के गठन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. इसके अलावा, आंध्र प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में एनटीआर ने विधायिका के प्रति कार्यपालिका की जिम्मेदारी सुनिश्चित करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो लोकतंत्र की मुख्य विशेषताओं में से एक है.

तेदेपा सांसद ने एक समाज सुधारक के रूप में भी दिवंगत एनटीआर की सेवाओं को याद किया, जिन्होंने आर्थिक, सामाजिक-राजनीतिक, शैक्षिक और रोजगार क्षेत्रों में कई अवसर पैदा किए थे.

एनटीआर ने महिलाओं को पैतृक संपत्ति में अधिकार दिया और बेटियों को बेटों के बराबर रखा, इसलिए उन्‍हें प्रेरणा का स्रोत बताते हुए तेदेपा नेता ने दावा किया कि एनटीआर के अग्रणी कार्य का बाद में केंद्र ने अनुकरण किया.

उन्होंने कहा, एनटीआर के कद और निस्वार्थ सेवा को देखते हुए उन्हें भारत रत्‍न का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार प्रदान करना अधिक उचित होगा, जो न केवल तेलुगू लोगों के लिए, बल्कि पूरे देश के लिए गर्व की बात होगी. .

एसजीके/