लखीमपुर खीरी हिंसा का सुप्रीम कोर्ट ने लिया स्वत संज्ञान

नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के लखीमपुर खीरी में हुई घटना का स्वत: संज्ञान लिया है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में चीफ जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस सूर्यकांत और हीमा कोहली की बेंच इस मामले पर आज यानी गुरुवार (Thursday) को सुनवाई करेगी. दरअसल, रविवार (Sunday) को उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के लखीमपुर खीरी में किसानों के प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा में चार किसानों समेत कुल नौ लोग मारे गए थे. लखीमपुर खीरी में हुई घटना के बाद से उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में सियासी घमासान मचा हुआ है और विपक्षी दलों ने राज्य की भाजपा सरकार पर दोषियों को बचाने का आरोप लगाया है. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के उपमुख्यमंत्री (Chief Minister) केशव प्रसाद मौर्य के लखीमपुर दौरे से पहले किसानों के प्रदर्शन के दौरान तीन अक्तूबर को भड़की हिंसा में आठ लोग मारे गए थे. किसानों का आरोप है कि घटना में एक एसयूवी ने चार किसानों को कुचल दिया जो तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे.

बाद में गुस्साए प्रदर्शनकारियों (Protesters) ने कथित तौर पर भाजपा के दो कार्यकर्ताओं और एक चालक को पीट-पीटकर मार डाला जबकि हिंसा के दौरान एक स्थानीय पत्रकार की भी जान चली गई. इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा और अन्य के खिलाफहत्या (Murder) की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है. हालांकि, अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. मंगलवार (Tuesday) को दो वकीलों ने उच्चतम न्यायालय को पत्र लिखकर शीर्ष अदालत की निगरानी में इस मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने का अनुरोध किया था. वकीलों ने पत्र को जनहित याचिका के तौर पर लेने का भी अनुरोध किया था. इधर, योगी सरकार ने भी न्यायिक जांच समिति के गठन की प्रक्रिया शुरू कर दी है. हालांकि, अब तक यह तय नहीं हुआ है कि किस रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में जांच करवाई जाएगी. इस बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने लखीमपुर खीरी पहुंच कर पीड़ित किसान परिवारों से मुलाकात की.

Check Also

आयकर विभाग ने 18 अक्टूबर तक करदाताओं को रिफंड किए 92,961 करोड़ रुपए

नई दिल्ली (New Delhi) . देश के आयकर महकमें ने चालू वित्त वर्ष (2021-22) में …