शीर्ष कोर्ट ने एनटीए को स्नातक पाठ्यक्रम के लिए नीट-2021 के रिजल्ट घोषित करने की इजाजत दी

नई दिल्ली (New Delhi) . देश की सर्वोच्च अदालत ने राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) को देशभर में स्नातक स्तरीय चिकित्सा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) के परिणाम घोषित करने की गुरुवार (Thursday) को इजाजत दे दी. न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव, न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति बीआर गवई की पीठ ने एनटीए को नीट के परिणाम घोषित नहीं करने तथा दो अभ्यर्थियों के लिए फिर से परीक्षा कराने के निर्देश देने संबंधी बंबई उच्च न्यायालय के हालिया आदेश पर स्थगन लगा दिया. दोनों विद्यार्थियों के प्रश्नपत्र और ओएमआर शीट महाराष्ट्र (Maharashtra) के एक परीक्षा केंद्र में आपस में मिल गए थे. पीठ ने एनटीए की ओर से पक्ष रख रहे सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता की दलीलों पर संज्ञान लेने के बाद कहा, ‘हम उच्च न्यायालय के फैसले पर रोक लगाते हैं. राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी परिणाम घोषित कर सकती है.’

पीठ ने कहा, ‘हम अदालत के पुन: खुलने (दीपावली की छुट्टियों के बाद) पर दोनों विद्यार्थियों के बारे में निर्णय लेंगे. इस बीच हम जवाब दाखिल करने के लिए नोटिस जारी करते हैं. लेकिन हम 16 लाख छात्रों का परिणाम नहीं रोक सकते.’ बंबई हाई कोर्ट ने 20 अक्टूबर को एक अभूतपूर्व फैसले में एनटीए को आदेश दिया था कि दो अभ्यर्थियों के लिए नए सिरे से परीक्षा आयोजित की जाए और उनके परिणाम 12 सितंबर को हुई परीक्षा के मुख्य परिणामों के साथ घोषित किए जाएं. हाई कोर्ट ने इस तथ्य का संज्ञान लिया था कि दो अभ्यर्थियों, वैष्णवी भोपाल (Bhopal) ी और अभिषेक शिवाजी के प्रश्नपत्र और ओएमआर शीट परीक्षा शुरू होने से पहले परीक्षा केंद्र पर आपस में मिल गए थे. अदालत ने आदेश दिया था कि उन्हें नए सिरे से परीक्षा देने का अवसर मिले. स्नातक स्तर के मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिहाज से नीट परीक्षा आयोजित करने के लिए 2018 में एनटीए की स्थापना की गई थी. एनटीए ने याचिका में बताया कि 16,14,777 अभ्यर्थियों के लिए 202 शहरों में 3,682 केंद्रों पर 12 सितंबर को परीक्षा आयोजित की गई.

Check Also

इस हफ्ते 10 करोड़ हो जाएगी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों का आंकड़ा …