सोनिया गांधी ने मान ली कपिल सिब्बल और आजाद की मांग


नई दिल्ली (New Delhi) . लगता है कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के संकट का अब जल्द समाधान होने वाला है. दरअसल, कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक आगामी 16 अक्टूबर को बुलाई गई है. इस बार कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक वर्चुअल तरीके से न होकर कांग्रेस मुख्यालय में सभी सदस्यों की मौजूदगी में होगी. कोरोना की वजह से कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक साल भर से अधिक वक्त से वर्चुअल तरीके से हो रही थी. उल्लेखनीय हैं कि कांग्रेस में मौजूदा समय में अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी हैं और अगले अध्यक्ष के चुनाव काफी समय से टाले जा रहे हैं. कयास लगाए जा रहे हैं कि सीडब्ल्यूसी की इस बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव को लेकर कोई रूपरेखा तय की जा सकती है.

आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, यह बैठक सुबह 10:00 बजे शुरू होगी. संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की तरफ से कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्यों को लिखित पत्र में बताया गया है की बैठक का एजेंडा तीन अहम मसलों पर होगा. वेणुगोपाल ने कहा, 24 अकबर रोड पर बुलाई कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में मौजूदा राजनीतिक स्थिति, आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) और कांग्रेस के संगठनात्मक चुनाव पर चर्चा होगी.

कांग्रेस के जी-23 समूह के नेताओं की ओर से पार्टी के भीतर संवाद की मांग किए जाने और हालही में गुलाम नबी आजाद द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र के बाद कांग्रेस वर्किंग कमेटी की ये पहली बैठक है. आजाद से पहले जी-23 नेताओं की तरफ से कपिल सिब्बल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पार्टी की पंजाब (Punjab) इकाई में मचे घमासान के बीच नेतृत्व पर सवाल खड़े किए थे और कहा था कि कांग्रेस कार्य समिति की बैठक बुलाकर इस स्थिति पर चर्चा होनी चाहिए और संगठनात्मक चुनाव कराए जाने चाहिए.

Check Also

कोरोना महामारी के कठिन वक्त में भी दोस्‍ती की कसौटी रहा भारत-आसियान : पीएम मोदी

नई दिल्‍ली . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने कहा कि कोरोना महामारी …