कोरोना संकट के बीच मौसमी बीमारियों ने दी दस्तक


जयपुर (jaipur) . पिछले दो साल से कोरोना की तीसरी दस्तक की चिकित्सकों द्वारा लहर आने की खबरों ने आम लोगों की चिंता अभी तक दूर ही नहीं हुई थी कि मौसमी बीमारियों ने घर घर में दस्तक देनी शुरू कर दी है. राजकीय अस्पतालों से लेकर निजी अस्पतालों, डिस्पेसिरयों और डॉक्टरोंं के क्लीनिकों पर भी मौसमी बीमारियों की चपेट में आये मरीजो की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है.

मौसमी बीमारियों में डेगूं, चिकनगुनिया, मलेरिया, खांसी, जुकाम, बुखार ने छोटे छोटे बच्चो को भी अपनी गिरफ्त में ले लिया है प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल और क्षेत्रीय अस्पतालों में कावंटिया बनीपार्क एवं बच्चो के सबसे बड़े अस्पताल जेकेलोन में हालात यह है कि रोजाना सैकडो मरीज उपचार के लिए आ रहे है.

कावंटिया अस्पताल अधीक्षक लीनेश्वर हर्षवर्धन का कहना है कि मौसमी बीमारियों के मरीज बढे जरूर है मगर अस्पताल आने वाले हर मरीज को समय पर उपचार दिया जा रहा है उन्हें सलाह दी जा रही है कि घरेलू ईलाज और मेडिकल से दवा न खरीदकर सरकारी अस्पताल में सरकार द्वारा उपलब्ध करवाई जा रही चिकित्सकीय सुविधाओं का लाभ दे उन्होने कहा कि रोग छोटा हो या बड़ा या किसी नाम का हो रोग तो रोग है इसलिए किसी भी प्रकार की असवाधानी ना बरते तुरंत पास के अस्पताल में जाकर चिकित्सकीय लाभ लें.

Check Also

ईशा अंबानी अमेरिका के स्मिथसोनियन नेशनल म्यूजियम ऑफ एशियन आर्ट के बोर्ड में शामिल

नई दिल्ली (New Delhi) . भारतीय शीर्ष उद्यमी मुकेश अंबानी की बेटी ईशा आंबानी के …