एसडीआरफ ने गोमुख में फंसे 30 ट्रैकर्स को सुर‎क्षित ‎निकाला

उत्तरकाशी . उत्तराखंड में लगातार तेज बारिश की वजह से कई इलाकों में बाढ़ और भूस्खलन की घटनाएं सामने आई हैं. यहां उत्तरकाशी में गोमुख ट्रैक पर भारी बारिश के चलते 25-30 ट्रैकर फंस गए थे. एसडीआरएफ की टीम ने सभी ट्रैकर को बचा लिया है. हालांकि, रेस्क्यू के दौरान एसडीआरएफ टीम को काफी परेशानी का सामना भी करना पड़ा. एसडीआरएफ ने बताया कि इन सभी ट्रैकर्स का रेस्क्यू किया गया. ट्रैकर की टीम गोमुख ट्रेक पर देवगड़ में भूस्खलन के बाद जाम हुई सड़क के चलते फंस गई थी. घटना की जानकारी गंगोत्री पुलिस (Police) के पास आई. इसके बाद एसडीआरएफ की टीम मौके के लिए रवाना हुई और यहां पहुंचकर टीम ने बारिश और कठिन रास्ते के बावजूद ट्रैकर्स का रेस्क्यू किया. उत्तराखंड में बारिश से जुड़ीं घटनाओं में अब तक 47 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें से 42 मृतक कुमाऊं क्षेत्र से हैं. उधर, मुख्यमंत्री (Chief Minister) पुष्कर सिंह धामी ने मृतकों के परिजनों को चार चार लाख रुपए की आर्थिक मदद का ऐलान किया है. एनडीआरएफ ने राज्य में 15 टीमें तैनात की हैं. अब तक बाढ़ प्रभावित इलाकों से 300 लोगों का रेस्क्यू किया गया है. एयरफोर्स ने बाढ़ प्रभावित इलाकों में तीन हेलिकॉप्टर तैनात किए हैं. इनमें से दो की तैनाती नैनीताल में की गई है. यहां बारिश, बादल फटने और भूस्खलन से सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. उधर गुजरात (Gujarat) राजस्व मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी ने बताया कि एक मोटे अनुमान के मुताबिक गुजरात (Gujarat) के विभिन्न हिस्सों में चारधाम यात्रा पर गए करीब 100 तीर्थयात्री भारी बारिश और भूस्खलन के कारण फंसे हुए हैं.

Check Also

ताइवान में अनुकूल परिस्थितियों से बुजुर्गों के जीवन में आया सुख-संतोष, औसत उम्र बढ़ी

  ताइपे . ताइवान के लोग पहले की तुलना में लंबा जीवन जी रहे हैं …