सऊदी प्रिंस ने दुनिया के सबसे अमीर आदमी का फोन करवाया हैक..! · Indias News

सऊदी प्रिंस ने दुनिया के सबसे अमीर आदमी का फोन करवाया हैक..!

दुबई.सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को लेकर ब्रिटिश अखबार ‘द गार्जियन’ ने एक चौंकाने वाली रिपोर्ट पेश की है. रिपोर्ट के अनुसार प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान द्वारा भेजे गए एक मैसेज से दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति और अमेजन के प्रमुख जेफ बेजोस का मोबाइल फोन हैक हो गया. ‘द गार्जियन’ ने अनाम स्रोतों का हवाला देते हुए रिपोर्ट प्रकाशित की जिसमें लिखा कि एक डिजिटल फॉरेंसिक विश्लेषण ने सुझाव दिया कि 2018 में अमेजन के प्रमुख के फोन से डाटा चोरी की शुरुआत मोहम्मद बिन सलमान के निजी व्हाट्सएप द्वारा भेजे गए एक वायरस वाले वीडियो फाइल से हुई. गार्जियन ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि अभी तक यह नहीं पता है कि फोन से क्या डेटा निकाला गया था, लेकिन यह रिपोर्ट बेजोस और उनकी पत्नी मैकेंजी की तलाक की आश्चर्यजनक घोषणा के लगभग एक साल बाद आई है. बेजोस ने शादी के 25 साल बाद अपनी पत्नी मैकेंजी से तलाक ले लिया. जेफ बेजोस और पूर्व टेलीविनजन एंकर लॉरेन सांचेज के बीच विवाहेतर संबंध का खुलाया किया था. अपने रिपोर्ट में कहा था कि बेजोस ने लॉरेन को काफी अतरंगी मैसेज भी भेजे थे.
बेजोस के सुरक्षा सलाहकार गेविन डे बेकर ने इस संबंध में कहा, ‘उन्हें विश्वास है कि ‘नेशनल एनक्वायर्र’ के बेजोस के विवाहेतर संबंधों के खुलासे से पहले ही सऊदी अरब सरकार ने बेजोस के फोन में सेंधमारी कर चुका था. लेकिन डे बेकर ने अपने दावे को लेकर कोई साक्ष्य पेश नहीं किए, जिससे उनके इस बात पर भरोसा किया जा सके. डे बेकर ने कहा कि ‘नेशनल एनक्वायर्र’ के सऊदी के साथ व्यापारिक संबंध है, साथ ही बेजोस के स्वामित्व वाले ‘वॉशिंगटन पोस्ट’ अखबार द्वारा सऊदी शासन के मुखर आलोचक रहे जमाल खशोगी की हत्या की कवरेज, ये सभी कारण हो सकते हैं कि सऊदी प्रिंस ने अमेजन के संस्थापक की छवि खराब करने के लिए उनका फोन हैक किया करवाया हो. उन्होंने कहा कि पिछले साल खबर प्रकाशित की थी 2018 में हुए जमाल खशोगी हत्याकांड के तार क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से जोड़े है. फिलहाल, यह स्पष्ट नहीं है कि बेजोस के फोन को हैक करके किसी भी संवेदनशील अमेजन कॉर्पोरेट जानकारी को हासिल किया गया है या नहीं.

Check Also

प्राकृतिक गैस की कीमत अप्रैल से 25 प्रतिशत हो सकती है कम

नई ‎दिल्ली . ‎विदेशी बाजारों में कमजोर कीमतें होने की वजह से भारत में प्राकृतिक …