बल्‍लेबाजी क्रम में बदलाव के कारण मुझे नुकसान हुआ : रॉबिन उथप्‍पा


नई दिल्‍ली . टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर रॉबिन उथप्‍पा ने कहा है कि बार बार बल्‍लेबाजी क्रम में बदलाव के कारण ही उनके करियर को नुकसान हुआ है और वह लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेल पाये हैं. अच्छी शुरुआत के बाद भी उथप्‍पा अपने करियर में 46 एकदिवसीय और 13 टी20 मैच ही खेल पाये हैं. उथप्‍पा ने कहा कि बार बार बल्‍लेबाजी क्रम में बदलाव के कारण ही वह अधिक नहीं खेल पाये. उथप्‍पा ने साल 2006 में इंग्‍लैंड के खिलाफ एकदिवसीय क्रिकेट में डेब्‍यू किया था. वहीं उन्‍होंने 2007 में स्‍कॉटलैंड के खिलाफ टी20 क्रिकेट में कदम रखा था.

उथप्‍पा ने 46 एकदिवसीय मैचों में 934 रन बनाए. वहीं 13 टी20 मैच में उन्‍होंने 249 रन बनाए. उन्‍होंने कहा कि अगर आप मेरे आंकड़े देखेंगे, तो आपको मालूम चलेगा कि मैंने 3 से ज्‍यादा मैचों में एक स्थान पर बल्‍लेबाजी नहीं की. हर तीसरे मैच में मेरा बल्‍लेबाजी क्रम बदल दिया जाता. उथप्‍पा ने कहा कि यदि मैं एक ही बल्‍लेबाजी क्रम पर 49 मैच खेलता तो फिर मैं भारत के लिए 149 या फिर 249 मैच खेल जाता.

उन्‍होंने कहा कि उस समय उन्‍होंने ऐसा इसीलिए किया, क्‍योंकि इससे टीम को फायदा हो रहा था. मगर इस वजह से मेरे करियर के आंकड़े खराब हो रहे थे. तेज गेंदबाज श्रीसंत के साथ केरल (Kerala) की ओर से खेले उथप्पा ने अब इस तेज गेंदबाज की तारीफ की है. उन्‍होंने कहा कि श्रीसंत वापसी के बाद लय में दिखाई दिये. उनकी आउट स्विंग और गेंद की सीम पोजिशन अब भी देश में सबसे बेहतरीन है.

Check Also

राहुल द्रविड़ की दरियादिली, श्रीलंकाई कप्तान को मैदान पर ही दिए अहम सुझाव

नई दिल्ली (New Delhi) . राहुल द्रविड़ महान खिलाड़ी और शानदार कोच तो हैं ही, …