आपके खाते में पैसे आने के लिए नहीं पड़ती ओटीपी की जरूरत: आरबीआई

नई दिल्ली (New Delhi) . देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन बढ़ने के साथ अब ठगी की घटना भी बढ़ रही है. भारत का बैंकिंग नियामक रिजर्व बैंक (Bank) कहता है कि आपको यदि किसी से पैसे लेना हो तो ओटीपी की जरूरत नहीं है. ओटीपी तब चाहिए जब आपको पैसे देना हो. पिछले कुछ दिनों में कई बुजुर्गों को खाते में पैसे भेजने का लालच देकर उनसे ओटीपी मांगकर ठगी की गई है. इन सभी मामलों में बुजुर्गों से कहा गया कि आपके अकाउंट में पैसे जाएंगे, इसलिए अपने मोबाइल पर आने वाला ओटीपी बता दीजिए. जो लोग अभी डिजिटल पेमेंट करना सीख रहे हैं, उन्हें ठग आसानी से धोखा देकर नुकसान पहुंचा रहे हैं. ऐसे मामले रोजाना सामने आ रहे हैं.

बड़ी संख्या में लोग वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) फ्रॉड का शिकार हो रहे हैं. ऑनलाइन या डिजिटल प्लैटफॉर्म पर पेमेंट करते वक्त यूजर्स की ओर से ही पेमेंट किया जा रहा है, यह कन्फर्म करने के लिए मोबाइल पर ओटीपी आता है. आप ओटीपी डालने के बाद ही पेमेंट कर सकते हैं और यही वजह है कि आपको ओटीपी किसी से न शेयर करने की सलाह दी जाती है. यह ओटीपी टेक्स्ट मैसेज के रूप में आता है और निश्चित समय (10मिनट तक) तक ही इसे यूज किया जा सकता है. फ्रॉड करने वाले इसकी मदद से बड़ी रकम अकाउंट से गायब कर देते हैं. ओटीपी फ्रॉड से बचने के लिए जरूरी है कि जब भी आप कहीं ओटीपी डालने जा रहे हों, तय कर लें कि कितनी रकम आपके अकाउंट से कटने वाली है. साथ ही जिस पेज पर ओटीपी डालना है, उसका सोर्स क्या है, इसे समझना भी जरूरी है. अगर सोर्स विश्वसनीय न लगे तो फौरन पेमेंट कैंसल कर दें. अनजान नंबर से आने वाली फोन पर अपना कोई भी व्यक्तिगत डिटेल देने से आपको बचना चाहिए.

Check Also

सोना और चांदी की चमक बढ़ी

नई दिल्ली (New Delhi) . एमसीएक्स पर 24 कैरेट सोने का भाव 0.39 फीसदी बढ़ …