बकरे की बलि के मामले में SHO निलंबित, भड़का राजपूत समाज, उग्र आंदोलन की दी चेतावनी


कोटा . जिले के देवली मांजी के थानाधिकारी भंवर सिंह को बकरे की बलि देने के मामले में निलंबित किये जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. राजपूत समाज के प्रमुख लोगों ने जिला कलक्टर (District Collector) उज्जवल राठौर से मुलाकात कर इस कार्रवाई का कड़ा विरोध जताया है. पूर्व विधायक भवानी सिंह राजावत के नेतृत्व में समाज के शिष्टमंडल ने जिला कलक्टर (District Collector) को कहा कि बलि पूरे देश में हो रही है. फिर राजपूत समाज को ही इसके लिये क्यों प्रताड़ित किया गया.

राजावत ने कहा कि बलिदान देना पीढ़ियों से राजपूत समाज की गौरवशाली परंपरा रही है. पूरे देश में जहां भी देवी के मंदिर हैं वहां भक्तजन उनको प्रसन्न करने के लिए बलि देते आयें हैं. सोशल मीडिया (Media) के जिस वीडियो के आधार पर थानाधिकारी को निलंबित किया गया उसमें उनका फोटो भी स्पष्ट नहीं है. केवल उसी आधार पर उनको निलंबित किये जाने से राजपूत समाज में आक्रोश भड़क रहा है.

राजावत ने कहा कि सरकार का यह पक्षपातपूर्ण रवैया ही हिंदू समाज को अपमानित कर आग में घी डालने का काम कर रहा है. गौरतलब है कि कोटा ग्रामीण के देवली मांझी थानाधिकारी भंवर सिंह का एक वीडियो सोशल मीडिया (Media) में पिछले दिनों वायरल हुआ था. इस वीडियो में वे बारां जिले के एक गांव में अनुष्ठान के दौरान बकरे की बलि देते दिखाई दे रहे थे. इस मामले में एसपी (ग्रामीण) शरद चौधरी ने वीडियो की पुष्टि किए जाने के बाद सीआई भंवर सिंह के निलंबन के आदेश जारी किए थे.

Check Also

सागर में तीसरे दिन घटी कोरोना संक्रमितों की संख्या

कलेक्‍टर दीपक सिंह की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव, काम पर लौटे सागर . जिले में आज …