Loading...

राजस्‍थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड परीक्षाएं 5 मार्च को प्रारंभ होगी तथा 3 अप्रेल को समाप्त होगी

300 केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरों से रखी जाएगी निगरानी, संवेदनशील-अति संवेदनषील केन्द्रों की वीडियोग्राफी भी होगी

जयपुर . माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, राजस्थान की उच्च माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक व्यावसायिक परीक्षाएं इस बार 5 मार्च से 3 अप्रैल तक और माध्यमिक एवं माध्यमिक व्यावसायिक परीक्षाएं 12 मार्च से 24 मार्च तक आयोजित होगी. बोर्ड परीक्षाओं में इस बार 20 लाख 56 हजार 552 पंजीकृत परीक्षार्थी परीक्षाएं देंगे. शिक्षा मंत्री श्री गोविन्द सिंह डोटासरा की अध्यक्षता में आयोजित उच्चाधिकार प्राप्त परीक्षा समिति की बैठक में सोमवार को यह जानकारी दी गई. श्री डोटासरा ने बताया कि परीक्षाओं के दोरान रेस्मा लागू रहेगा. परीक्षाओं के अंतर्गत जिलों में तहसीलदार उड़नदस्तों का गठन किया जाएगा.

शिक्षा मंत्री ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं में इस बार 20 लाख 56 हजार 552 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए है. उन्होंने बताया कि उच्च माध्यमिक परीक्षा के अंतर्गत 8 लाख 65 हजार 895 परीक्षार्थी, माध्यमिक परीक्षा के लिए 11 लाख 79 हजार 830, उच्च माध्यमिक परीक्षा के लिए 3 हजार 894 तथा प्रवेषिका परीक्षा के अंतर्गत 6 हजार 978 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए हैं. परीक्षा के लिए प्रदेष में 5674 परीक्षा केन्द्र बनाए गए है. इनमें 62 संवेदनषील और 30 अतिसंवेदनषील परीक्षा केन्द्र निर्धारित किये गये है.

श्री डोटासरा ने बताया कि परीक्षाओं कीे पारदर्षी प्रक्रिया के साथ गोपनीयता सुनिष्चित करने के लिए प्रदेष के सभी संवेदनषील, अति संवेदनषील परीक्षा केन्द्रों एवं 60 उत्तर पुस्तिका संग्रहण एवं वितरण केन्द्रों सहित लगभग 300 केन्द्रों पर सी.सी.टी.वी. द्वारा निगरानी रखी जायेगी. उन्हांेने बताया कि दौसा, करोली, सीकर, नागौर, झुन्झुनु, सवाईमाधोपुर, जोधपुर तथा बाडमेर जिलों के सभी परीक्षा केन्द्रों पर (सी.सी.टी.वी. कैमरा लगे केन्द्रों को छोडकर) वीडियोग्राफी भी विषेष रूप से करवाई जायेगी. उन्होंने यह भी स्पष्ट निर्देष दिये कि गत वर्ष की परीक्षाओं में संटिक लापरवाह अथवा खण्डित कार्मिकों को इस वर्ष की परीक्षाओं में नियुक्त नहीं किया जाए. शिक्षा मंत्री श्री डोटासरा ने बताया कि परीक्षाओं के दौरान सभी निजी विद्यालय परीक्षा केन्द्रो पर अनिवार्यतः माइको ओब्जर्वर नियुक्त होंगे. केंद्राधीक्षक या अन्य नियुक्त स्टाफ के विरूद्ध प्रात परीक्षा संबंधित किसी भी षिकायत पर त्वरित अनुषासनात्मक कार्यवाही की जाएगी.

इसके लिए निदेषक माध्यमिक शिक्षा के अधीन विषेष प्रकोष्ठ का गठन करने लिए भी उन्होंने निर्देष दिए. श्री डोटासरा ने बैठक के दौरान परीक्षओं की गोपनीयता पर विषेष ध्यान देने के निर्देष देते हुए कहा कि इस संबंध में किसी भी प्रकार की कोताही अथवा लापरवाही बर्दाष्त नहीं की जाएगी. उन्होंने कहा कि हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता यही होनी चाहिए कि बोर्ड परीक्षाएं पूर्ण गोपनीय तरीेके से हों और बोर्ड की साख बनी रहे. उन्होंने कहा कि परीक्षाओं की गोपनीयता के संबंध में बोर्ड स्तर पर किसी भी प्रकार की लापरवाही पाए जाने पर संबंधित अधिकारी और कर्मचारी के खिलाफ सख्त से सख्त अनुषासनात्मक कार्यवाही की जाएगी. उन्होंने कहा कि बोर्ड परीक्षाओं के दौरान प्रष्न पत्रों की सुरक्षा की दृष्टि से विषेष व्यवस्थाएं अभी से सुनिष्चित की जाए.

उन्होंने संवेदनषील एवं अति संवेदनषील परीक्षा केन्द्रों को विषेष ध्यान में रखते हुए वहां परीक्षाओं की गोयपनीयता को सभी स्तरों पर प्रभवी रूप में बरकरार रखे जाने की भी अधिकारियों को हिदायत दी. बैठक में बताया गया कि दौसा, करोली, सवाईमाधोपुर, सीकर, नागौर, झुन्झुनू, जोधपुर व बाड़मेर जिलो में सीसीटीवी युक्त लगे केन्द्रों को छोडकर शत-प्रतिषत केन्द्रों पर वीडियोग्राफी करवाई जाएगी. श्री डोटासरा ने कहा कि भविष्य के लिए परीक्षाओं की गोपनीयता एवं पारदर्षिता हेतु राज्य के षत-प्रतिशत परीक्षा केन्दों की वीडियोग्राफी अथवा सीसीटीवी लगवाने की कार्ययोजना पर भी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड गंभीरता से विचार करें.

उन्होंने थानों से दूर स्थित परीक्षा केन्द्रो के प्रष्नपत्र पुलिस चोकी पर रखे जाने, परीक्षा उड़नदस्ते के साथ एक-एक पुलिसकर्मी भेजे जाने, एकल व नोडल परीक्षा केन्द्रों तथा उत्तर पुस्तिका संग्रहण वितरण केन्द्रो पर प्रष्न पत्रों की सुरक्षा हेतु होमगार्ड की व्यवस्था किए जाने के भी निर्देष दिए. बैठक में बताया गया कि द्वितीय चरण में वितरित होने वालेप्रष्न पत्रों को कोषागार अथवा पुलिस लाईन में सुरक्षित रखने की व्यवस्था की जाएगी. यह भी बताया गया कि बोर्ड परीक्षाओं की प्रभावी प्रषासनिक व्यवस्थाओं के लिए एक मार्च से परीक्षाओं की समाप्ति तक प्रातः 7 से रात्रि 9 बजे निदेषक, माध्यमिक शिक्षा राजस्थान के कार्यालय में एवु नियंत्रक कक्ष स्थापित किया जाएगा.

बैठक में शिक्षा विभाग की शासन सचिव श्रीमती मंजू राजपाल ने परीक्षाओं सें संबंधित विभिन्न व्यवस्थाओं को प्रभावी रूप में सुनिष्चित किए जाने, जिला कलक्टर की अध्यक्षता में जिला परीक्षा संचालन समितियां गठित करने आदि के लिए निर्देष दिए. गृह विभाग के शासन सचिव श्री एन.एल. मीणा ने पुलिस विभाग से संबंधित व्यवस्थाओं और जिलो में की जाने वाली व्यवस्थाओं के बाारे में जानकारी दी. माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के प्रषासक एवं निदेषक माध्यमिक शिक्षा श्री हिमांषु गुप्ता तथा बोर्ड की सचिव श्रीमती मेघना चैधरी ने बोर्ड द्वारा की जा रही परीक्षाओं के तैयारियों के ंबारे में विस्तार से बताया. राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद् के आयुक्त श्री प्रदीप कुमार बोरड सहित बड़ी संख्या में शिक्षा विभाग तथा माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अधिकारियों ने बैठक में भाग लिया.

Loading...

Check Also

सुप्रीम कोर्ट ने सीएए पर असम-त्रिपुरा के लिए बनाई अलग कैटेगरी, केंद्र से मांगा जवाब

गुवाहाटी . नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत …