कांग्रेस के शराब छोड़ो नियम से दुविधा में राहुल गांधी

नई दिल्ली (New Delhi) . आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के मद्देनजर कांग्रेस पार्टी संगठन को मजबूत करने के लिए 1 नवंबर से सदस्यता अभियान की शुरुआत करने वाली है. इसको लेकर हाल ही में पार्टी अध्यक्षा सोनिया गांधी की अगुवाई में महासचिवों, प्रदेश प्रभारियों और राज्य इकाइयों के अध्यक्षों की बैठक हुई थी. इस बैठक में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पंजाब (Punjab) कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू भी मौजूद थे. इस बैठक में राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं से पूछा कि यहां पर मौजूद कितने लोग शराब पीते हैं? दरअसल, कांग्रेस सदस्यता अभियान का इन दिनों काफी चर्चा हो रही है. इसके मुताबिक कांग्रेस का सदस्य बनने के लिए व्यक्ति को घोषणा करनी पड़ेगी कि वह शराब या कोई नशा नहीं करता.

बैठक में राहुल गांधी द्वारा पूछे गए सवाल का नवजोत सिंह सिद्धू ने जवाब दिया. सिद्धू ने कहा कि उनके राज्य में तो अधिकांश लोग शराब पीते हैं. इसके अलावा बैठक में मौजूद दो महासचिवों ने भी यह स्वीकार किया कि वो शराब पीते हैं. इस बैठक के बाद शराब के नियम को लेकर चर्चा छिड़ गई. कांग्रेस के संविधान में इस बात का उल्लेख है कि पार्टी का सदस्य बनने के लिए किसी भी व्यक्ति को यह घोषणा करनी पड़ेगी कि वह शराब या फिर किसी भी नशे से दूर रहता है. इसके अलावा खादी पहनने का आदी हो. हालांकि बैठक में राहुल गांधी ने खुद माना था कि खादी अब महंगी हो गई है. ऐसे में माना जा रहा है कि जल्द ही कांग्रेस के संविधान में संशोधन हो सकता है.
 

Check Also

इस हफ्ते 10 करोड़ हो जाएगी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों का आंकड़ा …