अंधेरे में डूबा काबुल बिजली कंपनियों का बकाया नहीं चुका पाने की सजा

नई दिल्ली (New Delhi) . उज्बेकिस्तान से होने वाली सप्लाई में तकनीकी गड़बड़ी सामने आने के बाद अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के साथ ही कई अन्य प्रांतों में बिजली गुल हो गई है. अफगानिस्तान की सरकारी बिजली कंपनी ‘दा अफगानिस्तान ब्रेशना शेरकत ने इसकी जानकारी दी. यह ब्लैकआउट ऐसे समय में हुआ है, जब कुछ ही दिन पहले यह रिपोर्ट सामने आई थी कि मध्य एशियाई देशों को करीब 6.2 करोड़ डॉलर (Dollar) के बिजली बिलों का भुगतान करने के लिए सरकारी अधिकारियों की संपत्ति को बेचने की तैयारी में है. बता दें कि तालिबान के कब्जे के बाद से ही अफगानिस्तान में खाने-पीने तक क का संकट पैदा हो गया है. अफगानी बिजली कंपनी के हवाले से जानकारी दी कि उत्तरी अफगानिस्तान के बगलान प्रांत में तकनीकी समस्या आने की वजह से बिजली आपूर्ति बाधित हुई है. हालांकि, बिजली कंपनी ने यह भी कहा है कि उनका तकनीकी स्टाफ इस समस्या को जल्द-से-जल्द दूर करने के लिए काम कर रहा है. बता दें कि बिजली आपूर्ति के लिए अफगानिस्तान मध्य एशिया के देशों पर निर्भर है. अफगानिस्तान को 80 फीसदी बिजली उजबेकिस्तान और ताजिकिस्तान से मिलती है. हालांकि, इस साल अगस्त में तालिबान के कब्जे के बाद से तालिबान इन देशों का कर्ज चुकाने में नाकामयाब रहा है. डीएबीएस के पूर्व प्रमुख दाऊद नूरजई ने इसी महीने बताया था कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में सर्दियां आने तक भारी बिजली कटौती हो सकती है. उन्होंने कहा था कि तालिबान द्वारा बिजली आपूर्ति करने वाले देशों को बकाया बिल का भुगतान न करने की वजह से ऐसा हो सकता है. हालांकि, इस बीच डीएबीएस के कार्यकारी प्रमुख सफीउल्ला अहमदजई ने कहा है कि वे जल्द ही योजनागत तरीके से सभी बकाया चुका देंगे ताकि बिजली कटौती से बचा जा सके.

Check Also

‘देश अंगूठाछाप मोदी के कारण कष्‍ट झेल रहा है’ – कर्नाटक कांग्रेस के बयान पर बवाल

बेंगलुरू (Bengaluru) . कर्नाटक (Karnataka) में दो सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव के पहले …