बीएसएफ के नए अधिकारों से पंजाब में सियासी बवाल

नई दिल्ली (New Delhi) . पंजाब (Punjab) चुनाव में अब कुछ ही महीने बचे हैं लेकिन यहां मौजूद सियासी बवाल खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. पहले कृषि कानूनों का विरोध और फिर कांग्रेस सरकार में छिड़े घमासान के बाद अब पंजाब (Punjab) में एक नए मुद्दे पर सियासत गर्मा गई है. दरअसल, बुधवार (Wednesday) को केंद्र गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने तीन राज्यों में सीमा सुरक्षा बल का क्षेत्राधिकार बढ़ाया है, जिनमें से एक पंजाब (Punjab) भी है. राज्य में बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र को 15 किलोमीट से बढ़ाकर 50 किलोमीटर कर दिया है, यानी सीमा से भारतीय क्षेत्र के अंदर बीएसएफ 50 किलोमीटर के दायरे में तलाशी अभियान, गिरफ्तारी और जब्ती कर सकती है, वह भी बिना किसी ऑर्डर को पास करवाए. इस नए आदेश पर कांग्रेस नेता सुनील जाखड़ ने जहां सीएम चन्नी के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया है तो वहीं, पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह इसके समर्थन में आ गए हैं. पंजाब (Punjab) कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने एक बार फिर से ट्विटर पर नाराजगी जाहिर की है.

उन्होंने अपनी ही पार्टी के नेता और सीएम चरणजीत सिंह चन्नी से सवाल किया है कि क्या उन्होंने अनजाने में आधा पंजाब (Punjab) केंद्र को सौंप दिया है. जाखड़ ने कहा है कि अब पंजाब (Punjab) के 50000 वर्ग किलोमीटर के इलाके में से करीब 25000 वर्ग किलोमीटर बीएसएफ के दायरे में होगा. पंजाब (Punjab) पुलिस (Police) सिर्फ खड़ी रहेगी. बीएसएफ का अधिकार क्षेत्र बढ़ाते हुए अब अधिकारियों को गिरफ्तारी, तलाशी और जब्ती की शक्तियां भी दे दी गई हैं. ये अधिकार बीएसएफ को भारत-पाकिस्तान और भारत-बांग्लादेश के बीच अंतरराष्ट्रीय सीमा के 50 किलोमीटर के दायरे में दिया गया है. आसान शब्दों में अब मैजिस्ट्रेट के आदेश और वॉरंट के बिना भी बीएसएफ इस अधिकार क्षेत्र के अंदर गिरफ्तारी और तलाशी कर सकती है. पंजाब, पश्चिम बंगाल (West Bengal) और असम में पहले 15 किलोमीटर के दायरे में सर्च और अरेस्ट करने का अधिकार था, जिसे अब बढ़ाकर 50 किलोमीटर तक कर दिया गया है.

Check Also

सोने , चांदी की कीमतों में गिरावट

नई दिल्ली (New Delhi) . घरेलू बाजार में बुधवार (Wednesday) को सोने, चांदी (Silver) की …