प्रधानमंत्री ने भरुच सिविल हॉस्पिटल के पीएसए ऑक्सीजन प्लांट का ऋषिकेश से किया वर्चुअल लोकार्पण

अहमदाबाद (Ahmedabad) . मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेंद्र पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत ने कोरोना के खिलाफ जंग में वैक्सीनेशन, ऑक्सीजन प्लांट और अद्यतन उपचार सुविधाओं के जरिए विकसित देशों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है. भारत सरकार के मार्गदर्शन में राज्य सरकार (State government) ने भी कोविड काल में मरीजों के लिए उम्दा स्वास्थ्य सेवाओं का ढांचा खड़ा किया है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा गुरुवार (Thursday) को उत्तराखंड के ऋषिकेश से देशभर में 35 प्रेशर स्विंग एड्सॉर्प्शन (पीएसए) ऑक्सीजन प्लांट के ई-लोकार्पण के अवसर पर भरुच में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने यह बात कही. मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेंद्र पटेल ने भरुच सिविल हॉस्पिटल के पीएसए ऑक्सीजन प्लांट के लोकार्पण अवसर पर कहा कि प्रधानमंत्री ने गुजरात (Gujarat) के नागरिकों के स्वास्थ्य कल्याण की चिंता करते हुए अब तक पीएम केयर्स फंड से कुल 15 ऑक्सीजन प्लांट की भेंट दी है. कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व (सीएसआर) के अंतर्गत स्थापित 3 ऑक्सीजन प्लांट सहित कुल 18 प्लांट राज्य को उपलब्ध हुए हैं. उन्होंने कहा कि ये प्लांट कोरोना की संभावित तीसरी लहर के खिलाफ और आम दिनों में भी मरीजों की स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए लाभदायी साबित होंगे. पीएम केयर्स के तहत भरुच, पाटण, पालनपुर, थराद, खेड़ब्रह्मा, भिलोड़ा, माणसा, वडनगर, गोधरा, संतरामपुर, गरुड़ेश्वर, नया सिविल हॉस्पिटल-सूरत (Surat), स्मीमेर हॉस्पिटल-सूरत (Surat), सोला सिविल और गांधीधाम में जबकि गुजरात (Gujarat) सीएसआर अथॉरिटी की ओर से राजपीपला, झालोद और मोरबी में स्थापित नए पीएसए प्लांट भी लोगों को समर्पित किए गए हैं. भरुच के सिविल हॉस्पिटल में पीएम केयर्स फंड से 1.05 करोड़ रुपए की लागत से 1.87 मीट्रिक टन की क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना की गई है. राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने इससे संबंधित राज्यस्तरीय कार्यक्रम मुख्यमंत्री (Chief Minister) भूपेंद्र पटेल की अध्यक्षता में भरुच के पंडित ओंकारनाथ ठाकुर हॉल में आयोजित किया था. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि राज्य सरकार (State government) ने कोरोना की दूसरी लहर की सभी परिस्थितियों का आकलन कर संभावित तीसरी लहर का सामना करने के लिए स्वास्थ्य संबंधित सेवाओं और सुविधाओं की तैयारी पूरी कर ली है. पटेल ने सभी के सहयोग से सभी के विकास और सभी के विश्वास की राज्य सरकार (State government) की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए कहा कि राज्य सरकार (State government) ने कोरोना काल में आम आदमी के लिए किफायती स्वास्थ्य सेवाएं सुलभ कराई हैं. निजी हॉस्पिटलों में आरक्षित बेड की व्यवस्था कर हजारों मरीजों को निःशुल्क कोविड उपचार सुविधा मुहैया कराई थी जिसने राष्ट्रीय स्तर पर लोगों का ध्यान आकर्षित किया. विदेशी राष्ट्रों में ही उत्तम स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हो सकती हैं, ऐसे भ्रम को तोड़कर भारत और गुजरात (Gujarat) ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अनोखा मॉडल स्थापित किया है.

मुख्यममंत्री ने कहा कि विकास की राजनीति को समर्पित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) ने जनसेवा और समर्पण के 20 वर्ष पूरे किए हैं. उनके द्वारा बनाई गई सुशासन की राह पर चलकर जनसामान्य को सुशासन देने की राज्य सरकार (State government) की मंशा है. उन्होंने जोर देकर कहा कि जन समस्याओं को सरकार तक पहुंचाने के सारे दरवाजे खोल दिए हैं. जनता की आशा-अपेक्षा और सुझाव सरकार को हमेशा स्वीकार्य हैं और सुशासन के कामकाज में लोगों का सहयोग अपेक्षित है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि राज्य में भिखारियों को भिक्षावृत्ति से मुक्त कराने के लिए उनके रहने, खाने और स्वास्थ्य सहित तमाम सुविधाएं मुहैया कराने का सरकार ने आयोजन किया है तथा उन्हें रोजगार के माध्यम से आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में सरकार प्रयास कर रही है. सड़कों पर घूमती गायों के लिए भी योग्य व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) और महानुभावों ने कोरोना महामारी (Epidemic) के दौरान गांवों में सौ फीसदी वैक्सीनेशन पूरा करने वाले सरपंचों और दिन-रात ड्यूटी पर तैनात रहकर कोरोनाग्रस्त मरीजों की सेवा करने वाले कोरोना वॉरियर्स, चिकित्सकों और मेडिकल स्टाफ को सम्मानित किया. इसके साथ ही मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने 9.58 करोड़ रुपए के खर्च से अंकलेश्वर में नवनिर्मित रेवेन्यू स्टाफ क्वार्टर्स का ई-लोकार्पण किया. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने भरुच सिविल हॉस्पिटल का दौरा कर नए पीएसए ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण भी किया. इस अवसर पर भरुच जिले की विभिन्न सामाजिक संस्थाओं, इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने भी मुख्यमंत्री (Chief Minister) का स्मृति चिन्ह और पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया.
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव मनोज अग्रवाल ने स्वागत भाषण में कहा कि भरुच जिले में 98.39 फीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली खुराक और 85 फीसदी लोगों को दूसरी खुराक दे दी गई है जबकि 40 फीसदी लोगों का संपूर्ण वैक्सीनेशन किया गया है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार (State government) का लक्ष्य दूरदराज के इलाकों में रहने वाले लोगों को टीकाकरण के कवच से सुरक्षित करना है.

Check Also

किसानों को उनके धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य के रूप में लगभग 11099.25 करोड़ रु प्राप्त हुए

नई दिल्ली (New Delhi) . खरीफ विपणन सत्र 2021-22 में 17 अक्टूबर तक 56.62 एलएमटी …