नई दिल्ली, 4 अप्रैल . यह 2015 की बात है, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैलिफोर्निया के पालो ऑल्टो में टेस्ला सुविधा का दौरा किया था और एलन मस्क उन्हें अपने इलेक्ट्रिक कार प्लांट के दौरे पर ले गए थे और पीएम को आश्‍वस्त किया था कि इलेक्ट्रिक वाहन बनने जा रहे हैं. लगभग एक दशक बाद टेस्ला भारत में आने और निर्माण करने के लिए तैयार है.

टेक अरबपति अंततः देश में 2-3 अरब डॉलर का ईवी संयंत्र स्थापित करने के लिए संभावित स्थान की तलाश के लिए विशेषज्ञों की एक टीम भेज रहा है.

रिपोर्टों में कहा गया है कि टेस्ला के सीईओ के दिमाग में सबसे ऊपर तीन राज्य हैं – गुजरात, महाराष्ट्र और तमिलनाडु – जिनके पास ईवी बुनियादी ढांचा है, साथ ही बंदरगाह भी हैं, जो इलेक्ट्रिक कार की दिग्गज कंपनी के लिए “कारों का निर्यात करना” आसान बनाते हैं.

मस्क को टेस्ला गीगाफैक्ट्री स्थापित करने और बाकी दुनिया में ईवी निर्यात करने के लिए भारत को अपने अगले बड़े गंतव्य के रूप में देखने के लिए मनाने में पीएम मोदी के लगातार प्रयासों का श्रेय जाता है. पिछले साल जून में पीएम मोदी ने अमेरिका में मस्क से मुलाकात की थी और विभिन्न क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी को सुलभ और किफायती बनाने के उनके प्रयासों की सराहना की थी.

प्रधानमंत्री ने मस्क को इलेक्ट्रिक मोबिलिटी क्षेत्र में निवेश के लिए भारत में अवसर तलाशने के लिए आमंत्रित किया. प्रधानमंत्री से मिलने के बाद मस्क ने भारत में अपनी आपूर्ति श्रृंखला पारिस्थितिकी तंत्र स्थापित करने की खोज शुरू कर दी, जिससे सस्ती इलेक्ट्रिक कारें तैयार की जा सकें, जिनकी कीमत 20 लाख रुपये से भी शुरू हो सकती है.

मस्क के शब्दों में, “वह (पीएम मोदी) वास्तव में भारत की परवाह करते हैं, क्योंकि वह हमें भारत में महत्वपूर्ण निवेश करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं, जो कुछ ऐसा है जिसे हम करने का इरादा रखते हैं और हम सिर्फ सही समय का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.”

अरबपति ने पीएम से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा, “पीएम मोदी वास्तव में भारत के लिए सही काम करना चाहते हैं. वह यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि निवेश से होने वाला लाभ भारत को लाभ मिले.”

उन्होंने कहा, ”दुनिया के किसी भी बड़े देश की तुलना में भारत के पास अधिक संभावनाएं हैं.”

पिछले नवंबर में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कैलिफोर्निया में टेस्ला की अत्याधुनिक विनिर्माण संयंत्र का भी दौरा किया था. उन्होंने एक्स पर पोस्ट किया कि “प्रतिभाशाली भारतीय इंजीनियरों और वित्त पेशेवरों को वरिष्ठ पदों पर काम करते हुए और गतिशीलता को बदलने के लिए टेस्ला की उल्लेखनीय यात्रा में योगदान करते हुए देखकर बेहद खुशी हुई.”

केंद्रीय मंत्री ने कहा था, “टेस्ला ईवी आपूर्ति श्रृंखला में भारत से ऑटो कंपोनेंट आपूर्तिकर्ताओं के बढ़ते महत्व को देखकर गर्व होता है. यह भारत से अपने कंपोनेंट आयात को दोगुना करने की राह पर है.”

हालांकि, टेस्ला के मालिक ने गोयल से माफी मांगी थी कि वह अस्वस्थ होने के कारण उनसे नहीं मिल सके.

पिछले महीने घोषित नई ईवी नीति में पीएम मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने कुछ शर्तों के साथ सीमा शुल्क को घटाकर 15 फीसदी कर दिया है. ईवी विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने के लिए न्यूनतम 4,150 करोड़ रुपये (लगभग 500 मिलियन डॉलर) के निवेश की जरूरत होगी, उत्पादन तीन साल के भीतर शुरू होगा और तीन साल में 25 फीसदी डीवीए (घरेलू मूल्यवर्धन) और नई ईवी नीति के अनुसार 5 साल के भीतर 50 फीसदी डीवीए तक पहुंच जाएगा.

इससे अब मस्क के लिए भारतीय बाजार में प्रवेश का रास्ता साफ हो गया है.

बेन एंड कंपनी और ब्लूम वेंचर्स की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, भारत के ईवी बाजार में 2030 तक 100 अरब डॉलर के राजस्व के साथ 40 फीसदी से ज्‍यादा पैठ हासिल करने की क्षमता है. यह वृद्धि दोपहिया (2डब्ल्यू), तिपहिया (3डब्ल्यू) और चार-पहिया (कारों) वाली श्रेणियों में प्रवेश 20 फीसदी से जयादा बढ़ने का अनुमान है.

भारत एक निर्धारित समय सीमा में डीजल वाहनों को चरणबद्ध तरीके से खत्‍म करने के लिए अपने ईवी चार्जिंग बुनियादी ढांचे के निर्माण में भी प्रगति कर रहा है. इसके अलावा, फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ (हाइब्रिड एंड) इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (एफएएमई) योजना जैसी सरकारी पहलों ने ईवी अपनाने को और अधिक प्रोत्साहित किया है.

एसजीके/