पायलट के पास पर्याप्‍त संख्‍या-बल भले न हो पर कर सकते हैं गहलोत के खिलाफ खेमाबंदी · Indias News

पायलट के पास पर्याप्‍त संख्‍या-बल भले न हो पर कर सकते हैं गहलोत के खिलाफ खेमाबंदी


नई दिल्‍ली. राजस्थान (Rajasthan) में कांग्रेस की अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार (Government) में उपमुख्यमंत्री (Chief Minister) सचिन पायलट की नाराजगी के बाद फिलहाल तो संकट टल गया है लेकिन वरिष्ठ कांग्रेसी पायलट को मनाने के लिए कोशिशों में लगे हैं. वरिष्ठ नेता लगातार कोशिश कर रहे हैं कि राजस्‍थान (Rajasthan)की अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार (Government) पर कोई संकट न आए. मगर पार्टी का एक धड़ा यह भी मान रहा है क‍ि पायलट के नखरे दरअसल समय काटने की एक जुगत है.

ताकि बागी विधायकों की लिस्‍ट और लंबी की जा सके. कांग्रेस नेताओं को लगता है कि भले ही पायलट के पास पर्याप्‍त संख्‍या-बल न हो, मगर वह भाजपा की मदद से गहलोत के खिलाफ खेमाबंदी कर सकते हैं. ऐसा कर वह राजनीतिक संकट के बीच बागी विधायकों की संख्‍या बढ़ाते रहेंगे. हालांकि पायलट खेमे ने ऐसी किसी संभावना से इनकार किया. वरिष्‍ठ विधायक हेमाराम चौधरी ने मीडिया (Media) से कहा कि उनका भाजपा से कोई लेना-देना नहीं है. चौधरी ने कहा कि वे अपनी डिमांड पर अडिग हैं और जयपुर (jaipur) में नेतृत्‍व परिवर्तन ‘कांग्रेस के हित’ में है.
हालांकि पायलट ने साफ किया है कि वह विकल्‍पों को खारिज नहीं कर रहे.

मगर कांग्रेस में कुछ को लग रहा है कि शायद पायलट की कुछ ज्‍यादा ही मनुहार की गई. पायलट इन सबसे परेशान नहीं. उनके सूत्र एक आरटीआई याचिका की तरफ इशारा करते हैं जिसमें दिखाया गया कि सीएम से जुड़ी पब्लिसिटी और विज्ञापनों पर 25 करोड़ रुपये खर्च किए गए जबकि डेप्‍युटी सीएम के लिए एक पैसा तक नहीं दिया गया. पायलट के एक करीबी ने कहा, “यह दिखाता है कि वर्तमान नेतृत्व में कैसे चीजें हो रही हैं.” कांग्रेस सूत्रों का दावा है कि पायलट ने भले ही 30 विधायकों के साथ होने का दावा किया है, मगर उनके पास हुए 21 ही हैं. उन्‍होंने यह भी आरोप लगाया कि पायलट बीजेपी के साथ डील कर चुके हैं.

सोमवार (Monday) को विधायक दल की बैठक के बाद सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने ‘विजय’ का दावा किया. इसे डेप्‍युटी सीएम पायलट ने खारिज कर दिया और कहा कि उनके पास बहुमत नहीं हैं. पायलट ने विधायक दल की बैठक के नतीजे पर भी सवाल उठाए. उन्‍होंने साफ कर दिया है कि वह अपनी बात पर अड़े हुए हैं और बागी तेवर अपनाने के बाद समझौते को तैयार नहीं. पायलट और उनके खेमे के विधायक उस बैठक में शामिल नहीं हुए. राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, अहमद पटेल, पी चिंदबरम और केसी वेणुगोपाल जैसे वरिष्‍ठ नेताओं ने पायलट से बातकर उनसे जयपुर (jaipur) लौटने को कहा. लेकिन पायलट ने साफ कर दिया कि उन्‍हें सारे जवाब चाहिए.

राजस्थान (Rajasthan) में सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग में 100 से ज्यादा विधायक जुटाने का दावा कर के अपनी ताकत दिखा दी, तो वहीं सचिन पायलट के तेवर भी कुछ नरम पड़ने के संकेत मिले है, लेकिन बैठक में पायलट समेत कम से कम 19 विधायक नदारद रहे जो बताता है कि संकट अभी खत्म नहीं हुआ. इसके बाद जिस तरह से सभी कांग्रेस विधायकों को होटल (Hotel) में सुरक्षित कर लिया गया है, उससे भी साफ है कि फिलहाल गहलोत की कुर्सी भले बच गई हो, लेकिन पिक्चर अभी बाकी है.

अगर पायलट बीजेपी में शामिल नहीं होते तो उनके पास एक क्षेत्रीय पार्टी बनाने का विकल्‍प भी है. या फिर वे कांग्रेस में भी बने रहे सकते हैं. अगर वे कांग्रेस में रहते हैं तो शायद उन्‍हें ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी में जगह दी जा सकती है मगर यह भी हो सकता है कि उन्‍हें राजस्‍थान (Rajasthan)से बाहर जाना पड़े. कांग्रेस नेताओं ने कहा कि पार्टी नेतृत्व पर इस बात को ध्‍यान में रखने का दबाव है कि पायलट ने बीजेपी के साथ गलबहियां कीं और सरकार (Government) गिराने की कोशिश की. हालांकि पार्टी अपने बड़े चेहरों को खोना नहीं चाहती. वह पहले ही कई नेताओं को पिछले कुछ सालों में बागी होते देख चुकी है.

Check Also

घोल कलयुग : 23 साल के पिता पर 6 साल की बेटी से रेप का आरोप, आरोपी की पत्नी रहती है मायके में

शिमला (Shimla). हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की राजधानी शिमला (Shimla) में छह साल की बच्ची …