पंचायत आम चुनाव 2020 : स्वतंत्र, शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष मतदान के लिए जिले के निर्वाचन क्षेत्रों में धारा 144 लागू · Indias News

पंचायत आम चुनाव 2020 : स्वतंत्र, शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष मतदान के लिए जिले के निर्वाचन क्षेत्रों में धारा 144 लागू


उदयपुर (Udaipur). जिला मजिस्ट्रेट (कलक्टर)चेतन देवड़ा ने एक आदेश जारी कर पंचायत राज चुनाव 2020 के तहत जिले के संबंधित निर्वाचन क्षेत्रों में शांतिपूर्वक, स्वतंत्र व निष्पक्ष एवं सुव्यवस्थित ढंग से चुनाव सम्पन्न कराने को लेकर धारा 144 लागू कर दी है.

मतदाता बिना किसी डर एवं भय के अपने संवैधानिक मताधिकार का प्रयोग कर सके इसके लिए असामाजिक, अवांछित एवं बाधक तत्वों की गतिविधियों को नियंत्रित करने एवं कानून व्यवस्था व लोकशांति बनाये रखने के लिए दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत जिले के नगरीय क्षेत्र यथा नगर परिषद एवं नगर पालिका क्षेत्र को छोड़ते हुए जिले की गोगुन्दा, सराड़ा, झल्लारा, कुराबड़, सायरा, जयसमंद व सेमारी की राजस्व सीमा में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है.

यह प्रतिबंध लागू रहेंगे: कलक्टर देवड़ा ने बताया कि आदेश के तहत कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह का विस्फोटक पदार्थ, घातक रासायनिक पदार्थ, अस्त्र-शस्त्र, हथियार आदि का प्रदर्शन सार्वजनिक स्थानों पर नहीं कर सकेगा. जबकि यह आदेश सीमा सुरक्षा बल, राजस्थान (Rajasthan) सशस्त्र पुलिस (Police) बल, राजस्थान (Rajasthan) सिविल पुलिस (Police), चुनाव ड्यूटी में तैनात अर्द्ध सैनिक बल, होमगार्ड एवं चुनाव ड्यूटी में मतदान दलों में तैनात अधिकारियों, कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा. सिक्ख समुदाय के व्यक्तियों को धार्मिक परम्परा के अनुसार निर्धारित कृपाण रखने की छूट होगी. यह आदेश सशस्त्र अनुज्ञापत्र नवीनीकरण हेतु आदेशानुसार श़स्त्र निरीक्षण करवाने अथवा शस्त्र पुलिस (Police) थाना में जमा करवाने हेतु ले जाने पर लागू नहीं होगा.

बिना स्वीकृति जुलूस, सभा व रैली भी नहीं: कलक्टर देवड़ा ने बताया कि धारा 144 लागू होने के बाद कोई भी व्यक्ति, संस्था अथवा पार्टी सक्षम अधिकारी की स्वीकृति के बिना राजनैतिक प्रयोजनार्थ जुलूस, सभा रैली आदि का आयोजन नहीं करेगा. संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट की पूर्व अनुमति के बिना ध्वनि प्रसारण यंत्र का प्रयोग नहीं किया जा सकेगा. इंटरनेट तथा सोशल मीडिया (Media) यथा फेसबुक ट्विटर, वाट्सएप, यू-टूब आदि द्वारा किसी भी प्रकार का धार्मिक उन्माद, जातिगत द्वेष व दुष्प्रचार नहीं करेगा. साथ ही मंदिर, मस्जिद, गिरिजाघर, गुरुद्वारे या पूजा के अन्य धार्मिक स्थानों का निर्वाचन प्रचार मंच के रुप में प्रयोग नहीं किया जाएगा.
कलक्टर ने बताया कि यह आदेश 12 अक्टूबर 2020 की रात्रि 12 बजे तक प्रभावी रहेगा. इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन किये जाने पर संबंधित को भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के तहत दण्डित किया जाएगा.

Check Also

PIMS हॉस्पिटल को मिली NABL की मान्यता

उदयपुर (Udaipur). पेसिफिक इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (पीआ) हॉस्पिटल, उमरड़ा  को  नेशनल एक्रेडिटेशन बोर्ड फ़ॉर …