भारतीय युवा दिवस पर प्रभावशाली व्यक्तित्व: आत्मनिर्भरता की ओर एक कदम विषयक एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन

उदयपुर (Udaipur). उद्यमिता विकास प्रकोष्ठ, प्रबंध अध्ययन संकाय, मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय उदयपुर (Udaipur) एवं गुरु गोविंद जनजाति विश्वविद्यालय बांसवाडा (Banswara) के संयुक्त तत्वाधान में भारतीय युवा दिवस पर प्रभावशाली व्यक्तित्व: आत्मनिर्भरता की ओर एक कदम विषयक एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन दोपहर 1:00 बजे किया गया. इस वेबीनार में सुखाड़िया विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अमेरिका सिंह ने संदेश देते हुए कहा कि जनजातीय क्षेत्र के विद्यार्थियों में प्रभावशाली व्यक्तित्व विकसित करने में यह वेबीनार मील का पत्थर साबित होगी.

आगे बोलते हुए उन्होंने बताया कि देश निर्माण में दूरदर्शी युवाओं की महती भूमिका होती है और प्रभावशाली व्यक्तित्व उसमें मार्ग निर्देशक का कार्य करता है. मुख्य अतिथि के रुप में बोलते हुए गुरु गोविंद जनजाति विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर आईवी त्रिवेदी ने कहा कि आज  भारत के निर्माण में प्रभावशाली व्यक्तित्व पर यह वेबीनार अत्यंत आवश्यक है. व्यक्तित्व निर्माण में इस तरह की वेबीनार विद्यार्थियों को सही मार्गदर्शन दे आत्म निर्भरता का मार्ग प्रशस्त करेगी. वेबीनार के मुख्य वक्ता प्रोफेसर रमेश के अरोड़ा, चेयरमैन, मैनेजमेंट डेवलपमेंट अकैडमी जयपुर  ने कई तरह के  अभीप्रेरणात्मक  उदाहरण देते हुए देश के युवाओं को प्रसन्नचित रहने एवं सकारात्मक दिशा में कार्य करने के लिए प्रेरित किया.

उन्होंने स्वामी विवेकानंद द्वारा दिए गए भौतिक, मानसिक, सामाजिक एवं आध्यात्मिक पहलुओं को छूते हुए राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका पर रोचक तथ्यों के साथ वेबीनार की सार्थकता प्रस्तुत की. उधमिता विकास  प्रकोष्ठ के समन्वयक एवं प्रबंध अध्ययन संकाय के निदेशक प्रोफेसर हनुमान प्रसाद ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि भारत एक ऐसा राष्ट्र है जहां पर लगभग 50% से ज्यादा जनसंख्या 29 वर्ष की औसत आयु की है तथा यही वह जनसंख्या है जो इस राष्ट्र के आत्मनिर्भर बनने के सपने को साकार कर सकती है इसी उद्देश्य से उदयपुर (Udaipur) संभाग के युवाओं को प्रभावशाली व्यक्तित्व विकसित करने के उद्देश्य से इस वेबीनार का आयोजन किया गया है.

उधमिता विकास प्रकोष्ठ के सह समन्वयक एवं व्यवसायिक प्रशासन विभाग के सहायक आचार्य डॉक्टर (doctor) सचिन गुप्ता ने अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया तथा आशा की कि प्रभावशाली व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं पर हुई चर्चा को उदयपुर (Udaipur) संभाग के विद्यार्थी आत्मसात करते हुए निर्भरता की ओर अग्रसर होंगे. वेबीनार का संचालन श्रेया सिंघवी  ने किया. इस वेबीनार में देश के अकादमिक जगत के नामचीन विद्वानों ने शिरकत की जिनमें प्रमुख प्रोफेसर सुशील जी लालवानी, डॉ योगेश जैन प्रबंध अध्ययन संकाय के वरिष्ठ आचार्य प्रोफेसर करुणेश  सक्सेना, प्रोफेसर अनिल कोठारी, प्रोफेसर मीरा माथुर एवं  रानू नागौरी ट्विंकल जैन,राहुल नागदा, रिया गर्ग, हेमंत उमेश इत्यादि तकरीबन 100 प्रतिभागी उपस्थित थे.

Check Also

पहली विद्युतीकृत यात्री गाड़ी उदयपुर स्टेशन पहुंची, बहुप्रतीक्षित मांग हुई पूरी

उदयपुर (Udaipur). अजमेर -उदयपुर (Udaipur) खंड के विद्युतीकरण के पश्चात उम्मीद की जा रही थी …