नई दिल्ली, 3 अप्रैल . इंग्लैंड के तेज गेंदबाज ओली रॉबिन्सन का मानना है कि मेहमान टीम भारत में टेस्ट सीरीज 4-1 से हारने के लिए बदकिस्मत रही और उनका मानना है कि अगर चीजें उनके पक्ष में होती, तो यह 3-2 से जीत हो सकती थी.

हैदराबाद में पहला टेस्ट 28 रन से जीतने के बाद, इंग्लैंड को लगातार भारत के खिलाफ चार मैचों में हार मिली, जिससे भारत ने 4-1 से सीरीज पर कब्जा किया.

रॉबिन्सन ने स्काई स्पोर्ट्स न्यूज से कहा, “हम वास्तव में उस परिणाम को बदलने के करीब थे. जाहिर तौर पर चौथे टेस्ट में मैंने जो कैच छोड़ा था उससे हमें मदद मिलती और परिणाम कुछ और हो सकता था. सीरीज में 4-1 की हार बेहद निराशाजनक थी. टीम ने अच्छा क्रिकेट खेला और शायद दूसरे दौरे पर चीजें बदल सकती हैं.”

“जिस ब्रांड का क्रिकेट हम खेल रहे हैं वह वास्तव में प्रशंसकों के लिए देखने और हमारे खेलने के लिए अच्छा है. ईमानदारी से कहूं तो हम वास्तव में दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बनने के करीब हैं. थोड़ी बहुत जो कमी है, हम उसे भी पूरा करेंगे और हम क्रिकेट जगत पर हावी हो सकते हैं.”

रॉबिन्सन ने रांची में केवल चौथा टेस्ट खेला और भारत की पहली पारी में विकेटकीपर-बल्लेबाज ध्रुव जुरेल (59 रन) का कैच ड्रॉप किया. उनकी ये गलती टीम को महंगी पड़ गई. इसके बाद ध्रुव जुरेल ने 90 रन बनाए और शुभमन गिल के साथ नाबाद 72 रन की मैच विनिंग साझेदारी की. साथ ही भारत की पांच विकेट की जीत में मैन ऑफ द मैच भी बने.

गेंद के साथ, रॉबिन्सन ने 13 ओवर में 54 रन दिए, जिसमें छह नो-बॉल भी शामिल थीं. इसके अलावा, पिछली पीठ की चोट मैच के दौरान उभर आई, जिसके कारण उन्हें धर्मशाला में पांचवें टेस्ट से बाहर रखा गया.

रॉबिन्सन ससेक्स के लिए एक्शन में नजर आएंगे जब वे डिवीजन दो में नॉर्थम्पटनशायर के खिलाफ अपने काउंटी चैम्पियनशिप अभियान की शुरुआत करेंगे.

जुलाई में वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड का टेस्ट समर शुरू होने वाला है, रॉबिन्सन फॉर्म पाने और अपनी फिटनेस साबित करने के लिए बेताब हैं.

एएमजे/आरआर