बिग-बर्ड डे पर विशेषज्ञों ने की केम्पस बर्ड काउंटिंग : उदयपुर, बांसवाड़ा, सागवाड़ा, डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़ व अजमेर में हुई पक्षी गणना


उदयपुर (Udaipur). पक्षियों व वन्य जीवों के संरक्षण के लिए कार्यरत डब्ल्यू डब्ल्यू एफ-इण्डिया,   वागड़ नेचर क्लब, सोफिया कॉलेज व एमडीएस यूनिवर्सिटी अजमेर के संयुक्त तत्वावधान में ‘बिग बर्ड डे‘ के मौके पर प्रदेश के 7 अलग-अलग स्थानों पर पक्षी गणना का कार्य किया गया.

डब्ल्यू डब्ल्यू एफ के उदयपुर (Udaipur) प्रभारी अरूण सोनी ने बताया कि प्रतिवर्ष फरवरी माह में मनाएं जाने वाले इस ‘बिग बर्ड डे बर्ड काउंट’ के तहत इस बार कई शहरांे में पक्षी गणना करते हुए पक्षियों के संबंध में जानकारी संकलित की गई. यह गणना उदयपुर (Udaipur) के सिटी पैलेस परिसर, बांसवाडा (Banswara) के श्यामपुरा नेचर पार्क,  सागवाड़ा के राजकीय वीर कन्या कालीबाई जनजाति आवासीय विद्यालय परिसर, डूंगरपुर (Dungarpur) के पुलिस (Police) लाइन, चित्तौड़गढ़ जिले में गंगरार स्थित मेवाड़ यूनिवर्सिटी व अजमेर के सोफिया कॉलेज एवं एम. डी. एस. यूनिवर्सिटी कैम्पस मंे की गई.

इन पक्षी विशेषज्ञों ने की गणना:

इस असवर पर उदयपुर (Udaipur) सिटी पैलेस में पर्यावरणविद् डॉ. सतीश शर्मा, सेवानिवृत्त डीसीएफ सोहेल मजबूर, विनय दवे, पुष्पा खमेसरा द्वारा 32 प्रजातियों के पक्षियों की गणना की गई. वहीं वागड़ नेचर क्लब के डॉ. कमलेश शर्मा, दिनेश जैन, भरत कंसारा, जुगल बेहरानी, जय शर्मा व भुवन शर्मा द्वारा इस मौके पर 28 पक्षियों की प्रजातियों को चेकलिस्ट में दर्ज किया गया. इस दौरान यहाँ पर बड़ी संख्या में स्थानीय और प्रवासी पक्षियों को देखा गया. अजमेर में डॉ. मृगंका उपाध्याय, डॉ. विवेक शर्मा, दिनकर यादव व हरिश साहू के दल ने सोफिया कॉलेज में 39 प्रजातियों व एमडीएम यूनिवर्सिटी में 27 पक्षी प्रजातियां, सागवाड़ा में प्राचार्य भरत पाटीदार, मुकेश पंवार, पंकज स्वर्णकार, वीरेन्द्र गोवाडि़या, विमल कलासुआ व वेनिका पंवार ने 44 पक्षी प्रजातियां, डूंगरपुर (Dungarpur) में वीरेन्द्र सिंह बेड़सा, रूपेश भावसार, मुकेश द्विवेदी, डॉ. अर्पित सक्सेना व विभास गांधी में 42 पक्षी प्रजातियां तथा चित्तौड़गढ में डॉ. विजय यादव, गौतमसिंह धाकड़ एवं उनकी टीम ने 70 पक्षी प्रजातियों की गणना कर डाटा संग्रह किया.

पक्षी प्रजातियांें की संख्या और गतिविधियों को देखा:

पक्षी गणना मे शिकरा, ब्लेक काइट, इंडियन ग्रे हॉर्नबिल, ग्रीन बी ईटर, कॉपर स्मिथ बारबेट, ग्रे हेडेड केनेरी, फ्लाई केचर, डस्की क्रेग मार्टिन, लेसर व्हाइटथ्रॉट, ऑरिएंटल मेगपाई रॉबिन, रेग ब्रस्टेड फ्लाई केचर, हाउस स्पेरो, रॉक पीजन, व्हाइट थ्रोटेड किंगफिशर, इंडियन रॉलर, ब्लेक ड्रोंगो, एशिप्रिनिया, कॉमन हूपी, मोर, जंगल बेबलर, वायर टेल स्वेेलो, स्पोटेड आउलेट, लोंग टेल्ड श्राइक, ऑरियंटल व्हाईटआई, कॉमन चीट चेट, रफ, ट्री पाई, लार्ज ग्रे बेबलर, ब्राउन आउल, व्हाईट ब्रेस्टेड किंगफिशर, कॉमन सेंड पाइपर, रेड वेंटेड बुलबुल आदि देखे गए. इस दौरान सभी दल सदस्यों ने सर्वे किया और पक्षियों की गतिविधियों के बारे में जानकारी संकलित की.

2021-02-23
Previous उदयपुर की मानसी का सपना हुआ साकार : बनाया आईऑडिट सॉफ्टवेयर, जो करेगा 30 सैकेण्ड में 3 महिने की ऑडिट
Next सेना भर्ती रैली : सोमवार को 2 हजार 312 अभ्यर्थियों ने लगाई दौड़

Check Also

मप्र में पिछले 20 दिन में 774 मौतें : 24 घंटे में 13,107 नए केस, 75 मौतें, अप्रैल के अब तक 1.45 लाख लोग हो चुके कोरोना संक्रमित

-अब तक 4,788 मौतें, इसमें से 774 पिछले 20 दिनों में हुईं, पॉजिटिविटी रेट 24 …

Exit mobile version