जनआधार एवं राशनकार्ड की सीडिंग एवं मैपिंग के लिए अधिकारी नियुक्त


उदयपुर (Udaipur). मुख्य सचिव के आदेशों की पालना में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के लिए जनआधार से वंचित परिवारों के जनाधार नामांकन के लिए जिला कलक्टर (District Collector) चेतन देवड़ा ने प्रभारी अधिकारी नियुक्त किए हैं. कलक्टर देवड़ा ने जिला स्तर पर जिला रसद अधिकारी एवं आर्थिक एवं सांख्यिकी उप निदेशक को संयुक्त रूप से नोडल अधिकारी नियुक्त किया है. इसी प्रकार ई-मित्र से मैपिंग करवाने संबंधी कार्य, सीडिंग कार्य, सदस्यों का जनाधार नामांकन करवाने के कार्य हेतु एसीपी (डीओआईटी) शीतल अग्रवाल को प्रभारी लगाया गया.

सांख्यिकी उप निदेशक पुनीत शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री (Chief Minister) द्वारा वर्ष 2020-21 के बजट अभिभाषण में आमजन को लक्षित सार्वजनिक वितरण प्रणाली के समस्त लाभ जन-आधार कार्ड के माध्यम से उपलब्ध कराये जाने की घोषणा की गई है. बजट घोषणा के क्रियान्वयन हेतु माह जनवरी, 2021 में ग्राम पंचायत कालाडेरा, पंचायत समिति गोविन्दगढ, जिला-जयपुर (jaipur)में पायलट स्टडी की गई. इस पायलट स्टडी से प्राप्त तथ्यों की पुष्टि एवं अन्य संभावित तथ्यों को रेखांकित करने के लिये माह मार्च, 2021 में सातों संभाग मुख्यालय के जिले में एक-एक ग्राम पंचायत में भी और पायलट स्टडी की जा चुकी है.

पायलट स्टडी की प्राप्त रिपोर्ट के निष्कर्षों के आधार पर सार्वजनिक वितरण प्रणाली के सभी लाभ जन आधार कार्ड के माध्यम से दिये जाने हेतु तैयार कार्य योजनान्तर्गत उदयपुर (Udaipur) जिले में एनएफएसए राशन कार्डधारी परिवारों के जिन सदस्यों का जन आधार कार्ड से मैंपिंग नहीं है, उनकी मैंपिंग की जानी है तथा लगभग 18167 लाख एनएफएसए राशन कार्डधारी परिवार ऐसे है, जिनके पूरे परिवार का जन आधार नामांकन नहीं है, ऐसे सभी परिवारों का जन आधार नामांकन किया जाना है.

सीडिंग एवं मेपिंग कार्य का द्वितीय चरण शुरू

जिले में जनआधार एवं राशनकार्ड की सीडिंग एवं मेपिंग का कार्य का द्वितीय चरण 1 अगस्त से शुरू किया गया है. जिसमें जिले में पायलट सर्वे के रूप में चार पंचायत समिति सराड़ा, सायरा, झाड़ोल मावली एवं एक नगरपालिका फतहनगर में किया जाना है. इन चार ब्लॉक एवं एक नगरनिकाय के 55 हजार 391 परिवारों के राशन कार्ड की जनआधार कार्ड से मैपिंग का कार्य राशन डीलर, ब्लॉक सांख्यिकी अधिकारी एवं ई-मित्र के माध्यम से 31 अगस्त तक किया जाना है. इसी के साथ जिले के 18 हजार 167 एनएफएसए परिवारों का जनआधार नामांकन का कार्य भी सम्पूर्ण जिले में संचालित किया जा रहा हैं. इसमें परिवारों के वे सदस्य जिनका जनआधार नामांकन नहीं है, उन्हें ई-मित्र के माध्यम से जनआधार कार्ड के नामांकन हेतु प्रेरित किया जा रहा है, साथ ही परिवार के वह सदस्य जो मृत्यु, विवाह या पलायन के कारण स्थानान्तिरित हो गए है, उनकी सूचना भी एकत्रित की जा रही है.

94 प्रतिशत सीडिंग कार्य पूर्ण:

जिले में पायलट सर्वे के रूप में प्रथम चरण में चार ब्लॉक लसाडि़या गोगुन्दा ऋषभदेव एवं नगरपालिका सलूंबर में जनआधार एवं राशन सीडिंग का कार्य किया जा रहा है. जिसमें 94 प्रतिशत सीडिंग का कार्य पूर्ण कर लिया गया है. वर्तमान में द्वितीय चरण में पंचायत समिति सराड़ा, सायरा, झाड़ोल, मावली एवं नगरपालिका फतहनगर में केवाईसी प्रपत्र देकर सभी राशन डिलरों को प्रशिक्षण दिया गया. इस संबंध में निर्देश दिए हैं कि संबंधित पंचायत समिति के राशनकार्डधारी उपभोक्ता जनआधार एवं राशनकार्ड की सीडिंग एवं मैपिंग के लिए राशन प्राप्ति के समय केवाएसी हेतु परिवार का जनआधार कार्ड व परिवार के सभी सदस्यों के आधार कार्ड की प्रति साथ लेकर आए.

Check Also

सीएम गहलोत के खिलाफ केंद्रीय मंत्री का अमर्यादित बयान, कांग्रेस नेताओं ने की बयान की निंदा

जयपुर (jaipur) . कांग्रेस नेताओं ने राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok …