भुवनेश्वर, 31 मार्च . ओडिशा अपराध शाखा की साइबर अपराध इकाई ने 2021-22 के दौरान आईसीआईसीआई बैंक, ढेंकनाल शाखा में जमा 1.04 करोड़ रुपये से अधिक की हेराफेरी में कथित तौर पर शामिल एक रैकेट का भंडाफोड़ किया है. अपराध शाखा के एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी.

अपराध शाखा ने अब तक एक दंपति समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों की पहचान स्वागतिका स्वैन (28), उसके पति मनोज कुमार साहू (29) और उनके सहयोगी प्रशांत कुमार साहू के रूप में हुई है.

स्वागतिका निजी बैंक की ढेंकनाल शाखा में रिलेशनशिप मैनेजर के पद पर तैनात थी, जबकि आरोपी प्रशांत डिप्टी बैंक मैनेजर के रूप में काम करता है.

धोखाधड़ी तब सामने आई जब बैंक की ढेंकनाल शाखा के कुछ ग्राहकों ने अपने आईसीआईसीआई बैंक खातों से कुछ संदिग्ध अनधिकृत लेनदेन के बारे में बैंक अधिकारियों से शिकायत की.

अपराध शाखा ने बताया, “बैंक ने एक आंतरिक जांच कराई थी और यह पता चला था कि सावधि जमा के खिलाफ अनधिकृत ओवरड्राफ्ट के रूप में धोखाधड़ी वाले लेनदेन किए गए थे. इस तरह के ओवर-ड्राफ्ट का लाभ आई-मोबाइल एप्लिकेशन, म्यूचुअल फंड में फर्जी निवेश, एफडी को समय से पहले बंद करने और आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल पॉलिसी से संबंधित प्रीमियम राशि के दुरुपयोग के माध्यम से लिया गया था. स्वागतिका ने निजी लाभ के लिए कथित विवादित लेनदेन को अंजाम दिया था. सभी कथित लेनदेन 1 फरवरी 2021 से 30 जून 2022 के बीच किए गए.”

बाद में, आईसीआईसीआई बैंक के वित्तीय अपराध निवारण समूह के क्षेत्रीय प्रमुख ने पिछले साल दिसंबर में अपराध शाखा में शिकायत दर्ज कराई. अपराध शाखा ने इस संबंध में मामला (33/23) दर्ज करते हुए जांच शुरू की.

जांच के दौरान अधिकारियों ने पाया कि तत्कालीन रिलेशनशिप मैनेजर स्वागतिका को शाखा के विशिष्ट ग्राहकों को डोर-स्टेप सेवा प्रदान करने का काम सौंपा गया था.

अधिकारी ने कहा, “आरोपी दंपत्ति ने ज्यादातर वरिष्ठ नागरिकों को निशाना बनाया जो इलेक्ट्रॉनिक गैजेट और ऑनलाइन बैंकिंग के उपयोग के बारे में कम जागरूक थे और ऐसे ग्राहकों के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने की आड़ में थे; दंपत्ति उनकी निजी जानकारी हासिल कर लेते थे और धीरे-धीरे भरोसे का दुरुपयोग करने लगे. एक बैंकर के रूप में, स्वागतिका की बैंकिंग प्रणाली तक पहुंच थी. वह नियमों का उल्लंघन करते हुए, खाताधारक की जानकारी के बिना और धोखाधड़ी वाले लेनदेन के बारे में उन्हें अंधेरे में रखते हुए, लक्षित खातों के पंजीकृत फोन नंबर भी बदल सकती थी.”

आरोपी दम्पति गलत तरीके से कमाए गए पैसे को साहूकार के पास निवेश करते थे. पुलिस को संदेह है कि इस तरह के कृत्यों को मौन स्वीकृति देने में उक्त शाखा के उप शाखा प्रबंधक और प्रबंधक भी शामिल थे.

बैंक ने अब तक 11 धोखाधड़ी वाले खाताधारकों के 87,54,047 रुपये की हेराफेरी की गई धनराशि उन्हें वापस लौटा दी है.

एकेजे/