अब MP में बड़ी ग्राम पंचायतों में खुलेंगे उप लोक सेवा केंद्र

भोपाल (Bhopal) . मुख्यमंत्री (Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में नागरिकों को मिल रही विभिन्न सेवाओं की व्यवस्था को और अधिक पुख्ता किया जाएगा. इसके अंतर्गत लोक सेवा केंद्रों (public service centers) का विस्तार तहसील से आगे ग्राम पंचायत स्तर तक होगा. आने वाले एक साल में पाँच हजार से अधिक आबादी वाली ग्राम पंचायतों में उप लोक सेवा केंद्र स्थापित होंगे. नागरिकों को उनके द्वार पर सेवाएँ उपलब्ध करवाई जाएंगी. नागरिकों को खसरा की प्रति सिर्फ 10 रूपये प्रति पृष्ठ उपलब्ध करवाई जाएगी. यह सेवा 181 जनसेवा पर रजिस्टर्ड व्हाट्सएप नम्बर पर भी भेजने की सुविधा शुरू की जाएगी.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) मिंटो हाल सभा कक्ष में 17 सितम्बर से प्रारंभ हुए  जनकल्याण और सुराज अभियान के समापन दिवस पर संबोधित कर रहे थे. इस अवसर पर मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान ने सिंगल क्लिक से सात नये पोर्टल और आठ लोक सेवा केंद्र प्रारंभ किए. सामान्य प्रशासन, नगरीय विकास, योजना एवं सांख्यिकी, गृह और ऊर्जा विभाग के नवीन पोर्टल प्रारंभ किए गए. इन पोर्टल से नागरिकों को मिलने वाली जन सुविधाएं बढ़ेंगी और उनके कार्य आसान होंगे. गृह विभाग के पोर्टल पर अब ई -एफआईआर (First Information Report) हो सकेगी.

चौहान ने कहा कि प्रदेश में “ई-रुपी” की व्यवस्था को ई-वाउचर के रूप में लागू किया जाएगा. आयुष्मान भारत के अंतर्गत मरीजों की उपचार राशि एवं छात्रवृत्ति के भुगतान के लिए “ई-रुपी” के माध्यम से सीधे हितग्राहियों को विशिष्ट प्रयोजन के उद्देश्य से कैश बेनिफिट ट्रांसफर किया जा सकेगा. मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान ने कहा कि प्रदेश में 15 नवम्बर से 15 जनवरी 2022 तक हितग्राही मूलक योजनाओं का लाभ सभी हितग्राहियों को मिल रहा है या नहीं, इसे अभियान चलाकर सुनिश्चित किया जायेगा.

चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) ने गुजरात (Gujarat) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) और देश के प्रधानमंत्री के रूप में निरंतर कार्य करते हुए 20 सफल वर्ष पूर्ण किए हैं. उन्होंने आम जनता के लिए पारदर्शी व्यवस्था शुरू की. हितग्राहियों के खाते में सीधे राशि भेजने की व्यवस्था से अनियमितताएं समाप्त हो गई हैं. सुराज का मतलब भी यही है कि निश्चित समय-सीमा में सेवाएँ प्राप्त हों. प्रधानमंत्री मोदी वैभवशाली, गौरवशाली, शक्तिशाली भारत के निर्माण में जुटे हैं. उन्होंने गुजरात (Gujarat) मॉडल प्रस्तुत किया. वे विकास, सुराज और जनकल्याण की त्रिवेणी हैं. देश में उज्जवला योजना, किसानों को सम्मान निधि, सस्ता राशन, सभी को इलाज की सुविधा, गरीबों के लिए मकान, सार्वजनिक शौचालय व्यवस्था और स्वच्छता अभियान से आम जनता को लाभान्वित किया. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में 17 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक सुराज अभियान में भिन्न- भिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया.

चौहान ने कहा कि कोरोना काल की आर्थिक दिक्कतों के बावजूद मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में 40 हजार करोड़ रूपये की राशि अधोसंरचना विकास एवं अन्य कार्यों व्यय की गई. कोविड से जिन बच्चों ने माता-पिता को खो दिया है वे खुद को अकेला न समझें. सरकार उनके साथ है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान ने कहा कि आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) और आत्म-निर्भर भारत के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) इस कार्य में अपनी विशेष भागीदारी करेगा.

कृपया वेबसाइट के संचालन में आर्थिक सहयोग करें

Check Also

बारडोली में सूरत डिस्ट्रिक्ट बैंक में दिन दहाडे 10.40 लाख की लूट; लुटेरे फरार

सूरत (Surat) . जिले के मोता गांव स्थित सूरत (Surat) डिस्ट्रिक्ट कॉ. ऑ. बैंक (Bank) …