चन्नी ही नहीं, कांग्रेस आलाकमान भी सिद्धू के इस्तीफे से नाराज

नई दिल्ली (New Delhi) . पंजाब (Punjab) कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू, जिन्होंने कुछ दिन पहले प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दिया था, गुरुवार (Thursday) 14 अक्टूबर को कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल और पंजाब (Punjab) प्रभारी हरीश रावत से मुलाकात करेंगे. इस बैठक में यह तय हो जाएगा कि उनका इस्तीफा मंजूर होगा या फिर वह इस पद पर बने रहेंगे. पार्टी के पंजाब (Punjab) प्रभारी हरीश रावत ने इससे पहले मंगलवार (Tuesday) को ट्वीट किया था कि सिद्धू राज्य कांग्रेस के संगठनात्मक मामलों पर चर्चा करने के लिए उनसे मिलेंगे. उनके ट्वीट में कहा गया है, “नवजोत सिंह सिद्धू, अध्यक्ष पंजाब (Punjab) कांग्रेस 14 अक्टूबर को वेणुगोपाल के कार्यालय (दिल्ली में) में पंजाब (Punjab) प्रदेश कांग्रेस कमेटी से संबंधित कुछ संगठनात्मक मामलों पर चर्चा के लिए मुझसे और केसी वेणुगोपाल से मुलाकात करेंगे. पंजाब (Punjab) प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीपीसीसी) के अध्यक्ष पद से इस्तीफे के बाद सिद्धू की कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व के साथ पहली आधिकारिक बैठक होगी.

गौरतलब है ‎कि सिद्धू ने 28 सितंबर को ट्विटर पर पीपीसीसी प्रमुख के पद से इस्तीफे की घोषणा की थी. पार्टी सूत्रों के मुताबिक सिद्धू के इस्तीफे से आलाकमान खुश नहीं है और उनके इस्तीफे के बाद केंद्रीय नेतृत्व के साथ ऐसी कोई बैठक नहीं हुई है. सिद्धू की दखलअंदाजी ने पंजाब (Punjab) के पहले दलित मुख्यमंत्री (Chief Minister) चरणजीत सिंह चन्नी को भी नाराज कर दिया. हालांकि, अपने इस्तीफे के बाद सिद्धू ने कहा था कि वह हमेशा पार्टी नेताओं राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ खड़े रहेंगे. उन्होंने कहा था ‎कि पोस्ट हो या ना हो, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ खड़ा रहूंगा. नकारात्मक ताकतें मुझे हराने की कोशिश करें, लेकिन सकारात्मक ऊर्जा के हर औंस से पंजाब (Punjab) को जीत मिलेगी, पंजाबियत (यूनिवर्सल ब्रदरहुड) की जीत होगी और हर पंजाबी की जीत होगी.

Check Also

रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली पुलिस (Police) ने रेलवे (Railway)में नौकरी दिलाने के नाम …