यूपी की तर्ज पर बिहार में भी गन्ना मूल्य बढ़ाएगी नीतीश सरकार

नई दिल्ली (New Delhi) . सब ठीक रहा तो प्रदेश के किसानों को उत्तम गुणवत्ता के गन्ने की कीमत 350 रुपए क्विंटल की दर से मिल सकती है. अभी फिलहाल 315 रुपए प्रति क्विंटल की दर से किसानों को चीनी मिल भुगतान कर रहे हैं. इसी तरह सामान्य गन्ने की कीमत 340 रुपए प्रति क्विंटल तक हो सकती है. राज्य में पिछली बार यह कीमत 295 रुपए तय की गई थी. चीनी मिलों के गेट पर और बाहरी केंद्रों पर गन्ने खरीदने में भी भुगतान का अंतर होगा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सरकार की ओर से हाल में बढ़ाई गई इन नई दरों की तर्ज पर ही बिहार (Bihar) सरकार भी गन्ना का मूल्य निर्धारित करने की तैयारी कर रही है. बिहार (Bihar) सरकार के गन्ना उद्योग विभाग की ओर से उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सरकार से गन्ने की नई कीमत का पूरा ब्योरा मांगा गया है. गन्ना उद्योग विभाग की तैयारी पर अगर सहमति बनी तो लाखों किसानों को तोहफा मिल सकता है.

किसानों की ओर से लगातार गन्ने का मूल्य बढ़ाने की मांग की जा रही है. राज्य सरकार (State government) को बिहार (Bihar) शुगर मिल एसोसिएशन के साथ भी बैठक कर सहमति बनानी होगी. किसानों को गन्ने की उचित कीमत मिल सकेगी. इससे उनके जीवनस्तर में इजाफा होगा. उनकी क्रय शक्ति बढ़ने से राज्य की अर्थव्यवस्था को ताकत मिलेगी.इस साल फरवरी में 2020-21 के गन्ना पेराई सत्र के लिए राज्य सरकार (State government) ने गन्ने के मूल्य में प्रति क्विंटल पांच रुपए की वृद्धि की थी. इसके अलावा सरकार ने प्रति क्विंटल अतिरिक्त बोनस देने का भी फैसला लिया था. बिहार (Bihar) शुगर मिल एसोसिएशन की सहमति से यह फैसला लिया गया था. अब सरकार अगले सत्र के लिए गन्ने की कीमत बढ़ाने की तैयारी कर रही है राज्य सरकार (State government) की ओर से गन्ना की कीमत बढ़ाने में हाईकोर्ट के एक फैसले की बाधा है. इसके तहत राज्य सरकार (State government) को एफआरपी यानी फेयर एंड रिम्यूनरेटिव प्राइस के आधार पर गन्ने की कीमत तय करनी है. जबकि राज्य सरकार (State government) एसएपी यानी स्टेट एडवाइस्ड प्राइस के आधार पर गन्ने की कीमत तय करना चाहती है. शुगर मिल मालिक एफआरपी के आधार पर गन्ने की कीमत दिए जाने के पक्ष में हैं. जबकि किसानों को ज्यादा मूल्य एसएपी के आधार पर मिलेगा. इसलिए बिहार (Bihar) सरकार हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में अपील करने की तैयारी कर रही है.

Check Also

ताइवान में अनुकूल परिस्थितियों से बुजुर्गों के जीवन में आया सुख-संतोष, औसत उम्र बढ़ी

  ताइपे . ताइवान के लोग पहले की तुलना में लंबा जीवन जी रहे हैं …