चेपॉक जैसी ही होगी मोटेरा पिच : एंडरसन


अहमदाबाद (Ahmedabad) . इंग्लैंड के अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्स एंडसरन का मानना है कि नवनिर्मित मोटेरा स्टेडियम की पिच भी चेन्नई (Chennai) के चेपक मैदान की पिच के समान ही रहेगी. एंडसरन के अनुसार इस पिच पर अभी हरी घास दिख रही है पर उन्हें पूरा विश्वास है कि दिन रात्रि टेस्ट मैच के शुरू होने से पहले तक उसे काट दिया जाएगा. भारत और इंग्लैंड के बीच तीसरा टेस्ट मैच बुधवार (Wednesday) से क्रत्रिम रोशनी में खेला जाएगा. इंग्लैंड को चेपक में हुए दूसरे टेस्ट में 317 रनों से हार का सामना करना पड़ा था. एंडरसन ने कहा, ‘पिच पर अभी घास है लेकिन मुझे पूरा विश्वास है कि जब हम मैच खेलने के लिए मैदान पर उतरेंगे तो पिच पर यह घास नहीं होगी.’

उन्होंने कहा, ‘इसलिए हमें अभी टीम की घोषणा के लिए इंतजार करना होगा. एक तेज गेंदबाज होने के नाते हमें हर तरह के हालातों को देखते हुए अपनी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी करने के लिए तैयार रहना होगा. अगर स्विंग मिलता है तो यह शानदार होगा. अगर ऐसा नहीं होता है तो हमें तब भी अपनी प्रभावी भूमिका निभानी होगी.’ एंडरसन ने कहा कि उन्होंने गुलाबी एसजी गेंद से नेट सत्र के दौरान गेंदबाजी की और उन्हें लगता है कि यह लाल एसजी गेंद की तुलना में अधिक स्विंग करती है. उन्होंने कहा, ‘यह भारत में गुलाबी गेंद से दूसरा और फरवरी में पहला टेस्ट मैच होगा. इसलिए हम नहीं जानते कि यह कैसे व्यवहार करेगी.’ एंडरसन ने इसके साथ ही इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) की रोटेशन (खिलाड़ियों को आराम देने की नीति) का समर्थन करते हुए आलोचकों से टीम के व्यस्त कार्यक्रम को देखते हुए इसे विस्तृत तौर पर देखने को कहा है.

इंग्लैंड ने रोटेशन नीति के चलते जॉनी बेयरस्टॉ और मार्क वुड को भारत के खिलाफ पहले 2 टेस्ट मैचों से बाहर रखा और अब आखिरी 2 टेस्ट मैचों के लिए उनकी वापसी हुई है. विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर पहले टेस्ट मैच के बाद जबकि ऑलराउंडर मोईन अली दूसरे मैच के बाद स्वदेश लौट गये. एंडरसन ने कहा, ‘आपको व्यापक तस्वीर पर गौर करना चाहिए. इसके पीछे विचार यह था कि अगर मैं उस टेस्ट (दूसरे मैच) में नहीं खेल पाया तो इससे मुझे गुलाबी गेंद से होने वाले टेस्ट के लिए अधिक फिट होकर मैदान पर उतरने का मौका मिलेगा.’

वहीं इससे पहले केविन पीटरसन सहित कई पूर्व खिलाड़ियों ने ईसीबी की नीति की आलोचना की और कहा कि उसे भारत के खिलाफ इस बड़ी श्रृंखला में अपने सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी उतारने चाहिए.

Check Also

ओलंपिक में इस बार कम रहेगी भारतीय खिलाड़ियों की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . आगामी टोक्यो ओलंपिक के लिये मुक्केबाजी के वैश्विक क्वालीफिकेशन टूर्नामेंटों …