मोहन भागवत अयोध्या पहुंचे संगठन महामंत्री अमीर चंद के शोक में डूबा संघ परिवार

नई दिल्ली (New Delhi) . राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) के सर संघ चालक मोहन भागवत मंगलवार (Tuesday) की देर शाम करीब सवा सात बजे संघ प्रमुख सुरक्षा के भारी तामझाम के बीच साकेतपुरी कालोनी स्थित संघ मुख्यालय साकेत निलयम में पहुंच गये. उन्हें लखनऊ (Lucknow) से अयोध्या (Ayodhya) लाने के लिए संघ के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले भी लखनऊ (Lucknow) गये थे. वहां से संघ प्रमुख भागवत के अलावा सह सर कार्यवाह अरुण कुमार व डा. कृष्ण गोपाल के भी साथ आने की सूचना है. इसके पहले पूरा संघ परिवार संघ के ही आनुषांगिक संगठन संस्कार भारती के अखिल भारतीय संगठन महामंत्री अमीरचंद के शोक में डूबा रहा. मिली जानकारी के अनुसार संघ प्रमुख भागवत लखनऊ (Lucknow) में संस्कार भारती की ओर से आयोजित उनकी श्रद्धांजलि सभा में पहले शामिल हुए. इसके बाद उन्होंने अयोध्या (Ayodhya) के लिए प्रस्थान कार्यक्रम तय किया. इसके पहले सर कार्यवाह होसबोले सोमवार (Monday) को कारसेवकपुरम में अखिल भारतीय शारीरिक प्रमुखों के अभ्यास वर्ग का अनावरण करने के पश्चात बलिया स्थित अमीरचंद के आवास पर उनके परिजनों से भेंटकर संघ परिवार की ओर से अपनी संवेदना जताने चले गये थे. वहां से सर कार्यवाह सीधे लखनऊ (Lucknow) निकल गये और देर शाम उन्हें लेकर वापस लौटे हैं.

कारसेवकपुरम में चल रहे अखिल भारतीय शारीरिक प्रमुखों के अभ्यास वर्ग को भारी बारिश ने पूरी तरह से अस्त व्यस्त कर दिया. उधर सर कार्यवाह होसबोले के बलिया वाया लखनऊ (Lucknow) चले जाने के बाद केन्द्रीय अधिकारी के रूप में अकेले अखिल भारतीय शारीरिक प्रमुख सुनील कुलकर्णी व सह प्रमुख जगदीश ने अलग-अलग सत्रों में बौद्धिक ज्ञान प्रदान किया. वहीं परिसर में जलभराव के कारण संघ स्थान में एकत्रीकरण का कार्य नहीं हो सका. प्रात:कालीन सत्र में अलग-अलग प्रांतों की टोलियों ने बांसुरी के घोष के साथ विविध शारीरिक कार्यक्रम को दोहराया. वहीं सायं दोबारा बारिश के कारण सायंकालीन सत्र भी प्रभावित हुआ. मालूम हो कि सोमवार (Monday) को सायं सत्र में शारीरिक कार्यक्रम के लिए नया घाट से हाइवे जाने वाले फोरलेन सम्पर्क मार्ग का प्रयोग किया गया था लेकिन मंगलवार (Tuesday) को सभी अधिकारी कारसेवकपुरम से बाहर नहीं निकले बल्कि टुकड़ों में यत्र-तत्र आयोजन किया. इसके पहले कारसेवकपुरम के ग्राउंड से पानी निकालने का प्रबंध किया गया लेकिन वह सफल नहीं हो सका.

Check Also

ताइवान में अनुकूल परिस्थितियों से बुजुर्गों के जीवन में आया सुख-संतोष, औसत उम्र बढ़ी

  ताइपे . ताइवान के लोग पहले की तुलना में लंबा जीवन जी रहे हैं …