लखीमपुर हिंसा मामले में मुख्‍य आरोपी आशीष मिश्रा 12 घंटे पूछताछ के बाद गिरफ्तार

लखीमपुर खीरी . लखीमपुर हिंसा मामले में मुख्‍य आरोपी बीजेपी नेता आशीष मिश्रा को करीब 12 घंटे की लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है. यूपी पुलिस (Police) की एसआईटी ने आशीष को शनिवार (Saturday) रात करीब साढ़े दस बजे गिरफ्तार कर लिया गया है.

ashish-mishra-arrest

डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल ने बताया कि जांच में सहयोग न करने और गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज होने के नाते आशीष को गिरफ्तार किया गया है. आशीष को अब कोर्ट में पेश किया जाएगा. उनसे करीब 40 सवाल पूछे गए. आशीष मिश्रा केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे हैं. आशीष से सुबह 11 बजे से पूछताछ चल रही थी.

आशीष मिश्रा के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 148, 149 (दंगों से संबंधित), 279 (लापरवाही से गाड़ी चलाना), 338 (किसी शख्स को चोट पहुंचाना जिससे उसकी जान को खतरा हो), 304-ए (लापरवाही से मौत), 302 (हत्या) और 120 बी (आपराधिक साजिश रचना) के तहत केस दर्ज हुआ है. बताया जा रहा है कि एसआईटी के कई सवालों का वह ठीक से जवाब नहीं दे पाए. आशीष की गिरफ्तारी को लेकर पूरा विपक्ष और किसान संगठन यूपी सरकार पर लगातार दबाव बना रहे थे.

गौरतलब है कि 3 अक्‍टूबर को लखीमपुर खीरी में चार किसानों को थार जीप से कुचलकर मार डाला गया था. इसके बाद भड़की हिंसा में चार और लोगों की मौत हो गई थी. यूपी सरकार ने सभी मृतकों के परिवारवालों को 45-45 लाख रुपये का मुआवजा दिया है. साथ ही, एक परिजन को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है.

इससे पहले केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी ने कहा था कि हम जानते हैं कि मेरा बेटा निर्दोष हैं. वह घटनास्थल पर मौजूद थे ही नहीं. वह क्राइम ब्रांच में सिर्फ पूछताछ के लिए गए हैं. शुक्रवार (Friday) को पूछताछ के लिए न पहुंचने पर आशीष मिश्रा को दोबारा नोटिस भेजी गई थी. यह नोटिस शनिवार (Saturday) को 11 बजे तक क्राइम ब्रांच में हाजिर होने का था.इस पर अजय मिश्रा टेनी ने कहा था कि वह कहीं भागा नहीं है, शनिवार (Saturday) को पुलिस (Police) के सामने पहुंचेगा. अजय कुमार मिश्रा ने अपने बेटे को निर्दोष बताते हुए कहा था कि उनका बेटा बीमार है और वह शनिवार (Saturday) को पुलिस (Police) के सामने पेश होगा.

किसानों को कुचलने वाली जीप का नहीं था बीमा
लखीमपुर खीरी कांड में जिस जीप से कुचलकर किसानों की मौत हुई थी उसका बीमा ही नहीं था. इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय कुमार मिश्र टेनी के नाम से है. परिवहन ऐप के पब्लिक डोमेन में उपलब्ध जानकारी से यह बात सामने आई है. यह पंजीकरण 14 जुलाई 2017 को हुआ था. परिवहन विभाग की वेबसाइट के मुताबिक, जिस गाड़ी से हादसा हुआ है उस गाड़ी का बीमा 13 जुलाई 2018 को खत्म हो गया था.मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ जो एफआईआर (First Information Report) हुई है उसमें भी इस गाड़ी का जिक्र है.


Check Also

वल्लभनगर उपचुनाव : क्षेत्र में 10 लाख से अधिक की नकदी जब्ती का मामला, देरी से सूचना देने पर SDM सहित 4 अधिकारियों को थमाया नोटिस

उदयपुर (Udaipur). वल्लभनगर विधानसभा उपचुनाव 2021 के दौरान सोमवार (Monday) को निर्वाचन अनुभाग की ओर …