भंवरी कांड के मुख्य आरोपी और पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा का निधन

नई दिल्ली (New Delhi) .राजस्थान (Rajasthan) में पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा का रविवार (Sunday) सुबह निधन हो गया. 69 वर्षीय मदेरणा कैंसर की बीमारी से पीड़ित थे. महिपाल मदेरणा का नाम जोधपुर (Jodhpur) जिले की एएनएम भंवरी देवी के किडनैपिंग और मर्डर केस में सुर्खियों में आया था. उस वक्त मदेरणा राजस्थान (Rajasthan) के जल-संसाधन मंत्री थे. बाद में इसी केस के चलते उन्हें अपने पद से हाथ धोना पड़ा था. भंवरी देवी केस में मदेरणा को दस साल की जेल भुगतनी पड़ी थी. कुछ वक्त पहले ही उन्हें हाईकोर्ट से जमानत मिली थी. मदेरणा पिछले काफी समय से मुंह के कैंसर से पीड़ित थे. बाद में उन्हें कोरोना भी हो गया था. हालांकि उन्होंने कोरोना को मात दे दी थी. पारिवारिक सूत्रों के अनुसार उनकी अंतिम यात्रा जोधपुर (Jodhpur) स्थित निवास से शुरू होकर पैतृक गांव चाडी के लिए जाएगी. वहां शाम करीब चार बजे उनके पिता पूर्व विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय परसराम मदेरणा की समाधि के पास ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. सितंबर 2011 में भंवरी देवी कांड ने देशभर में सुर्खियां बटोरी थीं. उस वक्त महिपाल मदेरणा अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार में जल संसाधन मंत्री थे. बाद में भंवरी देवी के साथ उनकी सीडी सामने आने के बाद उन्हें पद से हटा दिया गया था. इस केस के बाद से ही मदेरणा लगातार जेल में थे. वहीं मदेरणा की मौत के बाद मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने ट्वीट कर अपनी संवेदना व्यक्त की है.

महिपाल राजस्थान (Rajasthan) के दिग्गज नेता परसराम मदेरणा के बेटे थे. जोधपुर (Jodhpur) में उनकी राजनीतिक पकड़ खासी मजबूत रही है. उनकी फैमिली में उनकी पत्नी लीला मदेरणा और दो बेटियां हैं. मदेरणा की पत्नी फिलहाल जोधपुर (Jodhpur) की जिला प्रमुख हैं. वहीं उनकी एक बेटी दिव्या ओसियां से विधायक है. महिपाल मदेरणा खुद 19 साल तक जोधपुर (Jodhpur) के जिला प्रमुख रहे. वह दो बार ओसियां से विधायक चुने गए.

Check Also

इस हफ्ते 10 करोड़ हो जाएगी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण की संख्या

नई दिल्ली (New Delhi) . सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित श्रमिकों का आंकड़ा …