बिजनौर, 3 अप्रैल . उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले की नहटौर थाना पुलिस ने बुधवार को दलित युवती से सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में आबकारी विभाग में कार्यरत सिपाही को गिरफ्तार किया है.

पीड़िता का आरोप है कि आरोपी सिपाही ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर बारी-बारी से दुष्कर्म किया. आरोपी की पहचान शुभम के रूप में हुई. पीड़िता ने अपनी शिकायत में बताया कि उसकी मुलाकात आरोपी शुभम से 2015 में हुई थी. आरोपी तभी से शादी का झांसा देकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाता आ रहा है. इसी दौरान गर्भ ठहर जाने पर उसने 22 मई 2023 को बिजनौर के एक निजी अस्पताल में ले उसका गर्भपात करा दिया.

पीड़िता ने कहा कि दोनों की अलग-अलग जाति होने के कारण उसने 26 मई 2023 को समाज के डर से आर्य समाज के एक मंदिर में उसके साथ शादी कर ली. लेकिन इस शादी से शुभम के परिवार वाले खुश नहीं थे. वे बाद में उसे दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे. इसके बाद शुभम उसे अपने साथ बुलंदशहर ले गया, जहां पर वह आबकारी विभाग में सिपाही के पद पर कार्यरत था. वे दोनों एक होटल में कमरा लेकर पति-पत्‍नी के रूप में साथ-साथ रहने लगे.

पीड़िता ने आरोप लगाया कि आरोपी शुभम परिवार वालों के बहकावे में आकर उसे मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करने लगा और भारी-भरकम दहेज की मांग की. जब उसने मायके से दहेज लाने से इनकार कर दिया, तो शुभम ने अपने दोस्त मुकुल व शहजाद के साथ मिलकर बारी-बारी से उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया.

नहटौर थाना प्रभारी धर्मेंद्र कुमार सोलंकी ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर 21 मार्च को आरोपी शुभम, मनोज, संजय, रोशी, सुभाष, मुकुल और शहजाद के खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था. पुलिस ने बुधवार को मुख्य आरोपी शुभम को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है. जल्द ही सभी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

विमल कुमार/एसजीके